Home / देश जागरण / अब देश में आंधी-बिजली मचा नहीं पाएंगे तबाही, 12 घंटे पहले आप हो जाएंगे अलर्ट

अब देश में आंधी-बिजली मचा नहीं पाएंगे तबाही, 12 घंटे पहले आप हो जाएंगे अलर्ट

आँधी-बिजली से पिछले साल उत्तरी भारत में जान-माल की भारी क्षति के मद्देनजर देश के मौसम वैज्ञानिकों ने इसकी पूर्व चेतावनी की प्रणाली तैयार कर ली है और अप्रैल से मोबाइल ऐप के जरिए आम लोगों को यह चेतावनी मिलनी शुरू हो जाएगी। पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ. हर्षवद्र्धन ने सोमवार को यहां संवाददाताओं को बताया कि पिछले साल मानसून से पहले बड़े पैमाने पर बिजली गिरने के साथ तेज आंधी की घटनाएं  सामने आई थीं जिनमें दो सौ से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। इनमें संपत्ति का भी भारी नुकसान हुआ था।

उन्होंने बताया कि भारतीय मौसम विभाग ने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रॉपिकल मिटिओरोलॉजी के वैज्ञानिकों ने मिलकर ऐसी प्रणाली विकसित की है जो बिजली गिरने और उसके साथ आंधी का पूर्वानुमान जारी करने में सक्षम है। इसका ऐप इस साल अप्रैल तक जारी कर दिया जाएगा। डॉ. हर्षवद्र्धन ने बताया कि बिजली गिरने की रियल टाइम जानकारी देने के लिए देशभर में 48 लाटनिंग सेंसर लगाए गऐ हैं। यह जानकारी ‘दामिनी’ ऐप पर आम लोगों को मिलनी शुरू भी हो गई है। पृथ्वी विज्ञान सचिव माधवन राजीवन ने बताया कि यह जानकारी दो चरणों में उपलब्ध होगी। पहले चरण में आंधी-बिजली की संभाविता बताई जायेगी। करीब 12 घंटे पहले इसकी जानकारी दी जा सकेगी। इसके बाद छह घंटे का पूर्वानुमान जारी किया जायेगा। यह किसी शहर के क्षेत्र विशेष के लिए होगा जिसमें बताया जायेगा कि फलाँ क्षेत्र में अगले छह घंटे में बिजली गिरने की आशंका है।

Loading...

डॉ. राजीवन ने यूनीवार्ता को बताया कि इस पूर्वानुमान को जारी करने में कई तरह के आँकड़ों का सहारा लिया जायेगा। बादल का आकार, घनत्व, उसका आयनिक ध्रुवीकरण आदि के विश्लेषण के आधार पर पूर्वानुमान तैयार होगा। उन्होंने बताया कि बादल के भीतर हजारों की संख्या में बिजली कड़कती रहती है। उनमें से बिजली के जमीन तक पहुँचने की कितनी संभावना है, यह इस प्रणाली के माध्यम से तय करने की कोशिश की जा रही है।  डॉ. हर्षवद्र्धन ने बताया कि इसके अलावा मौसम की समग्र जानकारी और चेतावनी आम लोगों को उपलब्ध कराने के लिए भी एक ऐप विकसित किया जा रहा है। यह इस साल जून से एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध करा दिया जायेगा।

Check Also

डूबने की कगार पर EPF और पेंशन खाते में जमा पैसा, लगेगा 20 हजार करोड़ का झटका

नौकरी के पैसों से गुजर-बसर करने वाले और प्रोविडेंट फंड को ही अपनी बचत मानकर …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com