Breaking News
Donate Now

प्रधानमंत्री मोदी ने अनुच्छेद 370 हटाकर बाबा साहब को दी सच्ची श्रद्धांजलि-योगी आदित्यनाथ

 

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाबा साहब डॉ. भीमराव आंबेडकर के 64वें महापरिनिर्वाण दिवस पर शुक्रवार को उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण ​कर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि यह वर्ष बाबा साहब डॉ. भीमराव आंबेडकर की स्मृति का महत्वपूर्ण वर्ष है।

संविधान शिल्पी के रूप में बाबा साहब डॉ. भीमराव आंबेडकर ने अपने पूरे जीवन की साधना को संविधान को समर्पित किया। जो व्यक्ति भारत के संविधान का अपमान करता है, वह अप्रत्यक्ष रूप से बाबा साहब डॉ. भीमराव आंबेडकर का भी अपमान करता है।

बाबा साहब ने कहा था कि अनुच्छेद 370 देश के अंदर विभाजनकारी तत्वों को सर उठाने का अवसर प्रदान करेगा और जैसे भी हो इसे समाप्त करना चाहिए और उनकी बात सही साबित हुई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अनुच्छेद 370 हटाई और यही बाबा साहब को सच्ची श्रद्धांजलि है।

उन्होंने कहा कि 26 नवम्बर को प्रधानमंत्री ने संविधान दिवस के रूप में मनाने की परम्परा आरम्भ की। इस वर्ष तो उत्तर प्रदेश विधान सभा में संविधान दिवस पर विशेष सत्र भी आहूत किया गया। प्रधानमंत्री ने हर गरीब को 2022 तक छत और शौचालय बनाकर देने की घोषणा की। दलितों, वंचितों को विद्युत और गैस कनेक्शन दिये गये और आयुष्मान भारत योजना से आदरणीय प्रधानमंत्री ने बाबा साहब के ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ के सपने को स्वीकार किया है।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में पिछले ढाई वर्षों में ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में 28 लाख से अधिक गरीबों को प्रधानमंत्री आवास की सुविधा दी गई। 2.61 करोड़ गरीब परिवारों को शौचालय उपलब्ध कराये गये। प्रदेश में 1.16 करोड़ गरीबों को विद्युत एवं 1.46 करोड़ परिवारों को रसोई गैस के निःशुल्क कनेक्शन उपलब्ध कराये गए। 7 करोड़ प्रदेश के लोगों को आयुष्मान भारत योजना और मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के माध्यम से बीमा कवर दिया गया।

हर वनटांगिया मजदूर को, हर मुसहर, थारू और कोल जनजाति के लोगों को अनिवार्य रूप से आवास उपलब्ध करवाने का कार्य करना हमारा संकल्प रहा है। साथ ही सभी आवासहीन परिवारों को भी आवास उपलब्ध करवाने के लिए हम कृत संकल्पित हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने एंटी भू-माफ़िया टास्क फ़ोर्स बनाया। जिन जिन भू माफियाओं ने राजनीतिक संरक्षण में बड़ी-बड़ी सरकारी ज़मीनों पर कब्जा किया उनसे लेकर सरकार को कब्ज़ा वापस दिया गया।

यह भी तय किया गया कि जिस ग़रीब, दलित और वंचित के पास मकान बनाने को ज़मीन नहीं होगी सरकार उनको ज़मीन का पट्टा देकर मकान बनाने की कार्रवाई प्रारम्भ करेगी। महापुरुषों के नाम पर छुट्टी की परम्परा बंद होनी चाहिए। हमें महापुरुषों के संघर्षों से प्रेरणा प्राप्त करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि जब समाज में अस्पृश्यता आदि तमाम प्रकार के बंधन थे तब बाबा साहब ने विपरीत परिस्थितियों में उच्च अध्ययन प्राप्त किया और दुनिया के महान अर्थशास्त्रियों और न्यायविदों में उनका नाम आया। पूरी दुनिया ने बाबा साहब भीमराव आंबेडकर को सम्मान दिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज बाबा साहब द्वारा प्रदत्त प्रभावी संविधान की ताक़त है कि जिन लोगों ने लोकतंत्र को रौंदने का कार्य किया, बाबा साहब का अपमान किया वह राजनीतिक दल आज पूरी तरह विलुप्त होने के कगार पर हैं। जिन्होंने बाबा साहब का अपमान किया जनता आज उनकी वास्तविकता समझ चुकी है। आज उन्हें जनता स्वयं इतिहास की वस्तु बनाकर छोड़ दे रही है।

बाबा साहब देश की आज़ादी आंदोलन से बहुत पहले जुड़ चुके थे। वे संविधान शिल्पी रहे, क़ानून मंत्री रहे। प्रत्येक विपरीत परिस्थिति में देश का उन्होंने मार्गदर्शन दिया, लेकिन प्रधानमंत्री ने ही बाबा साहब का सच्चे अर्थों में सम्मान किया। प्रदेश और केंद्र सरकार सभी को बिना किसी भेदभाव के शासन के साथ जोड़कर बाबा साहब डाॅ. भीमराव आंबेडकर के सपने को साकार करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है।

बाबा साहब के एक बड़े स्मारक को बनाने की कार्ययोजना बननी है। इस कार्ययोजना को बहुत तेज़ी से आगे बढ़ाने की आवश्यकता है ताकि आडिटोरियम में किसी भी मौसम में कार्यक्रम किये जा सकें।

error: Content is protected !!

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com