Breaking News

24 घंटों के दौरान, देश के पश्चिमी तट पर मध्यम से तेज पछुआ हवाएं जारी रहेंगी

मानसून की अक्षीय रेखा बीकानेर, कोटा, मध्य प्रदेश के ऊपर बने हुए निम्न दबाव के क्षेत्र, झारसुगुडा, पुरी और फिर पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी की ओर से गुजर रही है। पिछले 24 घंटों के दौरान, दक्षिण गुजरात, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह पर मॉनसून सक्रिय रूप से सक्रिय रहा। इन क्षेत्रों में मध्यम से भारी और एक या दो स्थानों पर बहुत भारी बारिश हुई। मध्य प्रदेश के कई हिस्सों, गुजरात के कुछ हिस्सों, केरल, लक्षद्वीप, विदर्भ, मराठवाड़ा, तटीय ओडिशा और असम में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई।

उत्तर प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, उत्तराखंड के कुछ हिस्सों, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, आंतरिक ओडिशा और उत्तरी पंजाब में हल्की से मध्यम बारिश हुई और राजस्थान में एक या दो स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हुई।पूर्व और दक्षिण पश्चिम राजस्थान, पश्चिम बंगाल, झारखंड के कुछ हिस्सों, आंतरिक तमिलनाडु, आंतरिक कर्नाटक, तटीय आंध्र प्रदेश और शेष पूर्वोत्तर भारत में हल्की बारिश हुई। अगले 24 घंटों के दौरान, देश के पश्चिमी तट पर मध्यम से तेज पछुआ हवाएं जारी रहेंगी जिससे तेज बारिश होगी। मॉनसून के पश्चिम मध्य प्रदेश, गुजरात, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक और केरल के कुछ हिस्सों में सक्रिय रहने की उम्मीद है। इन क्षेत्रों में मध्यम से भारी बारिश संभव है। दक्षिण छत्तीसगढ़, तेलंगाना के कुछ हिस्सों, विदर्भ, मराठवाड़ा, उत्तरी मध्य महाराष्ट्र, दक्षिण राजस्थान, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह समूह में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है । ओडिशा में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक या दो स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।