Monday , August 2 2021
Breaking News

शिवसैनिकों ने जबरन बंद करवाया केएफसी, चिकन खा रहे लोगों को भगाया

गुरुग्राम। उत्तर प्रदेश में बूचड़खानों पर योगी आदित्यनाथ सरकार की कार्रवाई के बीच अन्य राmeat_shops_shuts_29_03_2017ज्यों में भी मीट की दुकानें निशाने पर हैं। हरियाणा के गुरुग्राम में शिवसेना ने जबरन मीट और चिकन की 500 दुकानों को बंद करा दिया है। इनमें मल्टीनेशनल फूड चेन केएफसी भी शामिल है।

गुड़गांव में करीब दो सौ शिवसैनिकों ने मीट की दुकानों पर धावा बोल दिया और नवरात्र तक सभी दुकानों को बंद करा दिया है। साथ ही शिवसैनिकों ने मीट दुकानदारों को हर मंगलवार को भी दुकान बंद रखने की चेतावनी दी है। शिवसेना ने केएफसी की एक दुकान में घुसकर वहां चिकन खाने आए लोगों को दुकान से बाहर निकाल दिया और दुकान बंद करा दी। शिवसेना ने दावा किया है कि उसे इस कार्रवाई में स्थानीय लोगों का समर्थन हासिल है और उन्हीं लोगों ने नवरात्रि के दौरान मीट की दुकानें बंद किए जाने की मांग की थी।

यूपी के बाद अन्य राज्यों में असर

उत्तर प्रदेश में अवैध मीट की दुकानों और बूचड़खानों को बंद कराने वाली राह पर झारखंड के बाद अब भाजपा शासित चार अन्‍य राज्‍य भी चल पड़े हैं। मंगलवार को राजस्‍थान, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और मध्‍यप्रदेश में भी अवैध तौर पर चलाए जा रहे बूचड़खाने व मीट की दुकानों पर प्रशासन ने हमला बोलते हुए बंद करा दिया। हरिद्वार में तीन, रायपुर में 11 और इंदौर में एक मीट की दुकानों को सील कर दिया गया है।

जयपुर नगर निगम ने कसा शिकंजा

जयपुर में नगर निगम ने ऐसी दुकानों व बूचड़खानों पर अप्रैल से कार्रवाई करने की घोषणा कर दी है। यहां की करीब 4,000 अवैध दुकानों को बंद किया जा सकता है। मीट विक्रेताओं ने दावा किया कि इनमें से 950 दुकानें वैध है, लेकिन कॉर्पोरेशन ने पिछले वर्ष 31 मार्च के बाद इनके लाइसेंस को रिन्‍यू नहीं किया। जयपुर नगर निगम के एक अधिकारी ने बताया कि लाइसेंस को रिन्‍यू नहीं किया जा सकता है, क्‍योंकि नगर निगम ने 10 रुपए की लाइसेंस फी को बढ़ाकर 1000 रुपए करने के प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी थी, लेकिन इसके लिए अब तक गैजेट नोटिफिकेशन नहीं जारी किया गया है।

लाइसेंस बना मुद्दा

न्‍यू जयपुर मीट असोसिएशन के अध्‍यक्ष अब्‍दुल राकुफ खुर्शी ने कहा, ‘इसमें हमारी कोई गलती नहीं क्‍योंकि लाइसेंस के रिन्‍यूअल के लिए हमने आवेदन कर दिया था। हमारे आवेदन को स्‍वीकार नहीं किया गया। हम जयपुर नगर निगम के इस कार्रवाई के खिलाफ विरोध करेंगे। नगर निगम के सूत्रों ने बताया कि शुरुआत में अवैध मीट की दुकानों व बूचड़खानों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जिन दुकानों के पास पहले लाइसेंस थे उनपर कार्रवाई नहीं होगी। पर कानून के अनुसार काम नहीं किए जाने पर इनके खिलाफ भी कार्रवाई होगी।’

हरिद्वार में प्रशासन द्वारा की गयी छापेमारी में पता चला कि 6 में से मात्र तीन दुकानों के पास वैध लाइसेंस था। बाकि के तीन दुकानें अवैध तरीके से चलाई जा रही थीं। हरिद्वार के एसएसपी कृष्‍ण कुमार वीके ने अंग्रेजी अखबार टाइम्‍स ऑफ इंडिया को बताया, ‘नवरात्र को देखते हुए एक लोक प्रतिनिधि की ओर से आई शिकायत के बाद यह कार्रवाई की गयी। वैसे मीट की दुकानें जो बगैर लाइसेंस चलाई जा रही हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और जिनके पास वैध कागजात हैं उन्‍हें परेशान नहीं किया जाएगा।’

प्रदूषण का कारण हैं ये दुकानें

छत्तीसगढ़ में रायपुर म्‍युनिसिपल कॉर्पोरेशन जोन-2 कमिश्‍नर आरके डोंगरे ने तीन दिन के भीतर 11 अवैध मीट की दुकानों को बंद करने को कहा है। ऐसा नहीं करने पर दुकानों को सील कर दिया जाएगा। गंदगी को सड़क के किनारे या सीवर में डालकर ये दुकानदार पर्यावरण को प्रदूषित कर रहे हैं।

इंदौर भी पीछे नहीं

इंदौर नगर निगम ने नियमों का उल्‍लंघन करने पर एक दुकान को बंद करने का आदेश दिया। निगम अधिकारी ने बताया, ‘हमें कुछ दिनों से दुकान के बारे में शिकायत मिल रही थी। जब हम वहां पहुंचे तो देखा की मीट को खुले में रखा गया है और दुकान की स्‍थिति भी खराब थी।’

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *