Top
Pradesh Jagran

दुधवा नेशनल पार्क के जानवरों से स्थानीय किसानों में दहशत

दुधवा नेशनल पार्क के जानवरों से स्थानीय किसानों में दहशत
X

लखीमपुर खीरी/देव श्रीवास्तव: दुधवा नेशनल पार्क जहां हजारों पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र रहता है वही इन दिनों पार्क के जंगली जानवर स्थानीय किसानों के लिए मुसीबत का सबब बने हुए हैं खीरी जिले के लोगो के लिये मुसीबत कम होने का नाम नही लेती। कही बाघ की दहशत तो कही हाथियों के उत्पात का आतंक और इस समय जंगल से भटके गैंडे की दहशत ने लोगो की दिन ही उड़ा रखी है ।

ijkl

यह भटका गैंडा बार -बार अपनी लोकेशन बदल कर जंगल के रास्ते भटक कर गन्ने के खेतों में घूम रहा है। गैंडे को तलाशने ने लिये दुधवा से आए हाथियों के द्वारा दिन भर कांबिंग कर गैंडे को खोजा जा रहा है।

वन विभाग की खोज जारी

इसी दौरान वन विभाग की टीम का कई बार सामना गैंडे से हुआ,पूरे दिन की कांबिंग में गैंडा दोबारा कहीं नहीं दिखा। वन विभाग की निगरानी टीमों ने गैंडे के पद चिन्हों को देखकर उसके दक्षिण गोला की ओर जाने का अनुमान लगाया है। टीम ने ग्रामीणों की सुरक्षा को देखते हुए निघासन क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में डेरा डाल दिया है।

गाँव के किसान हैं दहशत में

उधर गैंडे की मौजूदगी को देखते हुए गांवों के लोग काफी डरे हुए हैं। तीन दिन पहले शारदा सिंचाई नहर के मार्ग से दक्षिण निघासन रेंज के दुदैला वन ब्लॉक बुद्धापुरवा, ग्राम मूड़ा बुजुर्ग होते हुए मटेहिया, बैलहा, जंगल नंबर 11 में गैंडे के पगचिन्ह पाए गए। रेंजर रणवीर मिश्रा ने बताया कि गैंडे के पगचिन्हों से पता चला है कि वह लालबोझी के जंगल से निकल कर दक्षिण गोला की ओर चला गया है।फिलहाल गैंडे की इस चलकदमी के चलते ग्रामीण दिन ढलते ही अपने घरों में दुपक जाते है।

Next Story
Share it