छह गुना तक बढ़ी ड्राइविंग लाइसेंस फीस

अब डीएल बनवाना और गाड़ी का रजिस्ट्रेशन कराना महंगा हो गया है। यह वृद्धि दोगुने से लेकर छह गुना तक की गई है। बढ़ी हुई दर शनिवार 7 जनवरी से लागू हो गई है। ड्राइविंग लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन करने के अलावा लर्निंग लाइसेंस बनवाना भी महंगा हो गया है।
 driving-license_1483786331
सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने 29 दिसंबर को इस संबंध में नोटिफिकेशन जारी कर दिया था। उल्लेखनीय है कि आरटीओ में होने वाले कार्यों की फीस में बढ़ोतरी 1989 में आखिरी बार हुई थी। अब इतने सालों के बाद सरकार ने फीस को काफी बढ़ा दिया है।
रजिस्ट्रेशन के अलावा वाहनों का फिटनेस सर्टिफिकेट समय पर नहीं कराने पर प्रतिदिन के हिसाब से 50 रुपये की पेनाल्टी देनी होगी जो कि रेग्युलर चार्ज के अलावा होगा। इसके अलावा, भारी वाहनों का मैन्युल फिटनेस टेस्ट कराने पर 600 रुपये देने होंगे। ऑटोमेटेड टेस्ट पर 1000 रुपये फीस देनी होगी। कार का फिटनेस टेस्ट कराने में क्रमशः 400 व 600 रुपये की फीस देनी होगी

कितना महंगा हुआ लाइसेंस बनवाना ?

लर्निंग लाइसेंस बनवाने के लिए जहां पहले लोगों को प्रति वाहन के हिसाब से 30 रुपये फीस देनी होती थी। अब यह फीस 200 रुपए हो गई है। इसमें 150 रुपए लर्नर लाइसेंस फीस और 50रुपये टेस्ट फीस के लगेंगे। टेस्ट में फेल होने पर फिर से फीस भरनी होगी।

पहले टेस्ट में फेल होने पर दोबारा टेस्ट देने पर कोई फीस नहीं लगती थी। इसके अलावा स्थायी लाइसेंस के लिए 250 रुपए फीस थी, अब इसके लिए 700 रुपये देने पड़ेंगे। इसमें 200 रुपये लाइसेंस जारी करने के लिए, 200 रुपये स्मार्ट कार्ड के लिए और 300 रुपये ड्राईविंग लाइसेंस फीस होगी। 

अब लाइसेंस को रिन्यू कराने के लिए भी फीस को 300 रुपये कर दिया गया है। अगर लाइसेंस को बनवाने में एक साल की भी देरी हुई तो प्रत्येक साल के हिसाब 1000 रुपये देने होंगे।

=>
loading...

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *