Top
Pradesh Jagran

उत्तराखंड में बढ़े कोरोना के मामले, मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने दिल्ली को ठहराया जिम्मेदार

उत्तराखंड में बढ़े कोरोना के मामले, मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने दिल्ली को ठहराया जिम्मेदार
X

- 24 घंटे के दौरान मिले कोरोना के 585 नए पॉजिटिव केस, 458 मरीज ठीक हुए

- मसूरी स्थित एलबीएस एकेडमी के 33 ट्रेनी आईएएस की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव

- राज्य में कोरोना संक्रमित कुल मरीजों की संख्या 70,790, एक्टिव केस 4166 हुए

- राज्य में कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने की औसत दर 91.61 प्रतिशत हुई

देहरादून। उत्तराखंड में इस सप्ताह कोरोना के मरीजों की संख्या में एक बार फिर इजाफा होने लगा है। मसूरी के एलबीएस अकादमी में 33 प्रशिक्षु आईएएस की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद हड़कंप मच गया है। सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने राज्य में कोरोना के बढ़ते मामलों के लिए दिल्ली से उत्तराखंड में आ रहे लोगों को जिम्मेदार ठहराया है।

पिछले 24 घंटे के दौरान 585 नए मामलों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई और 458 मरीज स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किए गए हैं। इस दौरान राज्य में कोरोना संक्रमित 8 मरीजों की मौत हुई। इस तरह राज्य में कोरोना संक्रमित कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 70,790 और एक्टिव केस की संख्या 4,166 हो गई है। राज्य में कोरोना मरीजों के ठीक होने का औसत घटकर 91.61 प्रतिशत हो गया है। राज्य में अब तक कुल 64,851 मरीज पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं।

राज्य के कोविड 19 कंट्रोल रूम ने शनिवार शाम जारी हेल्थ बुलेटिन में बताया कि आज राज्य के अल्मोड़ा जिले में 24, बागेश्वर जिले में 6, चमोली में 57, चंपावत में 5, देहरादून में 210, हरिद्वार में 43, नैनीताल में 71, पौड़ी में 38, पिथौरागढ़ में 34, रुद्रप्रयाग में 28, टिहरी में 31, ऊधम सिंह नगर में 30 और उत्तरकाशी में 8 सैम्पल की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई है। राज्य में अबतक कोरोना संक्रमित 1,146 मरीजों की मौत हो चुकी है और 627 मरीज कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने से पहले ही राज्य से बाहर जा चुके हैं।

उधर, राज्य में विभिन्न अस्पतालों में उपचाराधीन 458 मरीजों को आज स्वस्थ होने के बाद छुट्टी दी गई। इनमें अल्मोड़ा जिले के 3, बागेश्वर के 21, चमोली के 62, चंपावत के 3, देहरादून के 167, हरिद्वार के 53, नैनीताल के 30, पौड़ी के 8, पिथौरागढ़ के 26, रुद्रप्रयाग के 33, टिहरी के 1, ऊधम सिंह नगर के 49 और उत्तरकाशी के 2 मरीज हैं। इस तरह राज्य में फिलहाल 4,166 मरीज विभिन्न अस्पतालों में उपचाररत हैं। इनमें अल्मोड़ा जिले में 193, बागेश्वर में 131, चमोली में 294, चंपावत में 100, देहरादून में 1196, हरिद्वार में 361, नैनीताल में 389, पौड़ी में 427, पिथौरागढ़ में 210, रुद्रप्रयाग में 193, टिहरी में 284, ऊधम सिंह नगर में 231 और उत्तरकाशी में 157 एक्टिव मरीज हैं।

राज्य में आज 11,200 सैम्पल की जांच रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है, जबकि 12,262 सैम्पल आज जांच के लिए भेजे भी गए हैं। राज्य में अबतक कुल 11,65,218 सैम्पल की जांच रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है और 17,595 सैम्पल की जांच रिपोर्ट प्रक्रियाधीन है।

उत्तराखंड में कोरोना के बढ़ते मामले पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मीडिया से बातचीत के दौरान इसके लिए दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों और वहां से उत्तराखंड आ रहे लोगों को जिम्मेदार ठहराया। उधर, दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के बयान पर पलटवार करते हुए कहा, "उत्तराखंड में स्वास्थ्य सुविधाएं अत्यंत लचर हालत में हैं। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री दिल्ली को दोषारोपित करने की बजाय अपने राज्य के अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए पर्याप्त संख्या में आईसीयू बेड और ऑक्सीजन की व्यवस्था करें, ताकि मरीजों की जान बचाई जा सके।"

Next Story
Share it