Breaking News
Donate Now

कुवारों की जान को कोरोना वायरस से है बड़ा खतरा, इस रिसर्च ने बढ़ाई वैज्ञानिकों की चिंता

कोरोना वायरस पर हो रहे नए-नए शोध और अध्ययनों से आम लोगों के साथ-साथ वैज्ञानिकों की भी चिंता बढ़ती जा रही है। अब कोविड-19 पर हुई एक और स्टडी में चिंताजनक आंकड़े सामने आए हैं। शोध में बताया गया है कि कोरोना सबसे ज्यादा अविवाहित लोगों के लिए जान का खतरा बन रहा है।

स्वीडन की स्टॉकहोम यूनिवर्सिटी (Stockholm University) के शोधकर्ता स्वेन ड्रेफॉल (Sven Drefahl) को अध्ययन के दौरान बहुत ही चौंकाने वाली बात पता चली है। ड्रेफॉल के अनुसार, कम आय, शिक्षा का निम्न स्तर, अविवाहित और कम या मध्यम आय वाले देशों में पैदा होने वाले जैसे कुछ ऐसे फैक्टर हैं जो इन लोगों में कोरोना से मरने का सबसे ज्यादा जोखिम बढ़ा रहे हैं।

The new coronavirus is finally slamming Russia. Is the country ready? |  Science | AAAS

खबर के मुताबिक यह अध्ययन स्वीडन में महामारी से मरे 20 और उसके अधिक उम्र के व्यस्कों के स्वीडिश नेशनल बोर्ड ऑफ हेल्थ एंड वेलफेयर में पंजीकृत मौतों के आकड़ों पर आधारित है। नेचर कम्युनिकेशंस नामक पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में, ड्रेफॉल ने बताया कि विदेश में पैदा होने वाले लोगों की स्वीडन में जन्म लेने वाले लोगों की तुलना में मृत्यु दर कम है।

वहीं, कम आय और शिक्षा का निम्न स्तर भी लोगों में कोरोना से मरने का जोखिम बढ़ा रहा है। वहीं महिलाओं की तुलना में पुरुषों के कोरोना से मरने का खतरा दोगुना है जो पिछले कई अध्ययनों में बताया गया है।

खबर के मुताबिक अध्ययन में सामने आया कि अविवाहित पुरुषों और महिलाओं में विवाहितों की तुलना में कोविड-19 से मरने का जोखिम डेढ़ से दोगुना ज्यादा है। वहीं, विवाहित पुरुषों की तुलना में अविवाहित पुरुषों का मृत्युदर अधिक है जिसका कारण बायोलॉजी और लाइफस्टाल जैसे फैक्टर हैं।

error: Content is protected !!