Breaking News

भुट्टा बेचने वाली 80 वर्षीय महिला की मदद को पहुंची स्वाति मालिवाल

नई दिल्ली। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल लगातार महिलाओं की मदद के लिए सक्रिय रहती हैं। इसी कड़ी में वह 80 वर्षीय दिव्यांग बुजुर्ग महिला की मदद को आगे आई हैं। किफोसिस से पीड़ित महिला की पीठ पूरी तरह मुड़ी हुई है। बावजूद इसके वह भुट्टा बेचकर अपना और पोतों का भरण-पोषण कर रही हैं।

दिल्ली महिला आयोग के प्रवक्ता राहुल ने बताया कि उन्होंने फंड जुटाने वाली संस्था ‘केटो’ के साथ मिलकर बुजुर्ग महिला के लिये रुपये इक्ट्ठा कर रहे है। महिला आयोग अभी तक दो लाख रुपये इक्ट्ठा कर चुका है।

बुजुर्ग महिला के हौसले को सलाम

दिल्ली महिला आयोग के प्रवक्ता राहुल के अनुसार, कुछ दिन पहले उनके ट्विटर पर एक व्यक्ति ने वीडियों को टैग किया था। जिसके बाद महिला आयोग ने वीडियों की जांच की और वह बुजुर्ग के पास पहुंचे। बुजुर्ग महिला विधवा है। वह दिल्ली के रघुबीर नगर इलाके में एक छोटी-सी झुग्गी में अपने 12 साल की पोती और 10 साल के पोते के साथ रहती है। बुजुर्ग महिला का बेटा उन्हें छोड़ कर कहीं चला गया है।

अपनी शारीरिक चुनौती के बावजूद, बुजुर्ग महिला एक स्ट्रीट वेंडर के रूप में काम करती हैं। मुड़ी हुई रीढ़ के साथ वह हर सुबह मकई खरीदने जाती हैं और फिर भारी गाड़ी को इलाके में धकेलती हैं। ग्राहकों को उससे खरीदने के लिए बुलाती हैं। वह चौथी मंजिल पर एक छोटे से कमरे में रहती हैं, जिस पर चढ़ना इस बुजुर्ग महिला की परेशानी को और बढ़ा देता है।

बुजुर्ग महिला के पोते-पोती पास के एक सरकारी स्कूल में पढ़ रहे हैं। लड़का डॉक्टर बनना चाहता है और लड़की टीचर बनना चाहती है। दोनों बच्चे खाना बनाने, मक्का खरीदने और बेचने में भी अपनी दादी की मदद करते हैं।

दिल्ली महिला आयोग ने महिला और उसके पोते-पोतियों से मुलाकात की और उनकी झुग्गी में जाकर हालात को समझा। इसके अलावा आयोग ने महिला को कुछ सहयोग राशि दी और उसकी मदद के लिए ‘केटो’ के साथ साझेदारी भी की है। महिला के लिए केटो द्वारा इक्ट्ठा की जाने वाली राशि सीधे उसके बैंक खाते में स्थानांतरित कर दी जाएगी। स्वाति मालिवाल ने महिला के लिए ट्वीटर के जरिए सहायता मांगी है।

मालीवाल ने कहा, “बूढ़ी महिला की हालत देखकर बहुत दुख हुआ है। मेरा दिल उनके लिए निकल जाता है, जब वह गाड़ी को पीछे की ओर खींचती है। बहुत ही दुखद दृश्य है। हम सभी को उनकी मदद करने के लिए अपनी ओर से कुछ करने की जरूरत है। ”