Top
Pradesh Jagran

अध्यात्म की नज़र से;क्यों सब कुछ होते हुए भी इन महामारियों के सामने बेबस होता इंसान?

अध्यात्म की नज़र से;क्यों सब कुछ होते हुए भी इन महामारियों के सामने बेबस होता इंसान?
X

आजकल पूरे विश्व मे कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के आने के कारण बहुत तेजी से लोग काल का ग्रास होते जा रहे हैं । वैज्ञानिकों की गणना के अनुसार लगभग प्रत्येक 100 में 3 व्यक्ति इसके शिकार हो रहे हैं ।

अब तक के सबसे पुराने विज्ञान, ज्योतिष विज्ञान की गणना के अनुसार कोरोना वायरस या किसी अन्य वायरस ( प्लेग, हैज़,स्पेनिश, फ्लू इत्यादि ) का मुख्य कारक ग्रह शनि,राहु-केतु, बार बार ग्रहण का लगना , नीचस्थ ग्रह,मारकेश की दशा इत्यादि इत्यादि को माना गया है । ये वायरस पूर्व काल में हर 100 वर्ष(1720,1820,1920,और अब 2020) पर एक बार अपना विकराल रूप लेकर आते हैं और लाखों लोगों को काल का ग्रास बना कर अपने साथ ले जाते है ।

जाहिर है 100-200-300 वर्ष पूर्व विज्ञान इतना एडवांस नही था जितना कि अब है । फिर भी मरने वाला के अनुपात में कमी नही आई है। इसका मुख्य कारण है कि अभी तक इन प्राकृतिक आपदाओं पर काबू पाने की विज्ञान की कोशिश अभी तक कामयाब नही हो सकी है । ग्रहों की चाल के अनुसार कोरोना की गति आने वाले कुछ महीनों में कम हो सकती है परंतु खत्म नही ।

सबसे पुराने शास्त्रों , रावण संहिता ,भृगु संहिता ,गर्ग संहिता, इत्यादि के अध्ययन से पता चलता है कि उन पुराने समय मे भी ये महामारियां आती थीं उस समय ईलाज हेतु केवल आयुर्वेद और ज्योतिष विज्ञान के अतिरिक्त कोई भी चिकित्सा विज्ञान था ही नहीं । लेकिन फिर भी ऋषि, मुनि, वैद्य के पास जाने वाले लोग इन महामारियों से बच जाते थे ।

अपने देखा होगा कि लोग ( नास्तिक या आस्तिक) अब प्रत्यक्ष,अप्रत्यक्ष रूप से आयुर्वेद का सहारा ले रहे हैं । यहाँ तक कि मेडिकल साइंस के पास भी अब कारगर ईलाज नही होने के कारण इससे संबंधित डॉक्टर भी आयुर्वेद और प्राणायाम करने पर जोर दे रहे हैं।

ज्योतिष विज्ञान में कोरोना वायरस या किसी अन्य वायरस ( प्लेग, हैज़,स्पेनिश, फ्लू इत्यादि ) का मुख्य कारक ग्रह शनि,राहु-केतु, बार बार ग्रहण का लगना , नीचस्थ ग्रह,मारकेश की दशा इत्यादि इत्यादि को माना गया है।

विगत लगभग एक वर्षों में हमने अभी तक कोरोना से ग्रसित लगभग 159 से अधिक व्यक्तियों का ईलाज ज्योतिष विज्ञान एवं आयुर्वेद के आधार पर करके उन्हें स्वस्थ किया है.आपसे अनुरोध है कि अनावश्यक घर से न निकले। स्वस्थ,अस्वस्थ सभी लोग कोरोना नियमो का पूर्णतः पालन करें ।

साभार:आचार्य राजेश कुमार(https://www.divyanshjyotish.com)

Next Story
Share it