Top
Pradesh Jagran

अपने परमाणु यूनिट पर हुए ब्लैक आउट को ईरान ने बताया 'परमाणु आतंकवाद',इतने महीने पीछे हुआ ईरान

अपने परमाणु यूनिट पर हुए ब्लैक आउट को  ईरान ने बताया परमाणु आतंकवाद,इतने महीने पीछे हुआ ईरान
X

ईरान ने अपनी भूमिगत नतांज परमाणु इकाई में हुए ब्लैकआउट को आतंकवादी कार्रवाई करार दिया है. देश के परमाणु ऊर्जा संगठन के प्रमुख अली अकबर सालेही ने कहा कि रविवार को हुई घटना आतंकी कार्रवाई थी. हालांकि, उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया है, लेकिन माना जा रहा है कि ईरान का इशारा अमेरिका या इजरायल की तरफ है. बता दें कि इस समय वैश्विक शक्तियां और ईरान परमाणु समझौते को लेकर बातचीत कर रहे हैं, ऐसे में इस घटना से तनाव बढ़ सकता है.

साइबर हमले से हुआ अँधेरा

कई इजराइली मीडिया घरानों ने आकलन किया कि एक साइबर हमले की वजह से नातान्ज में अंधेरा छा गया और उस इकाई को क्षति पहुंची जहां संवेदनशील सेंट्रीफ्यूज स्थित हैं। हालांकि, खबरों में इस आकलन के लिए किसी स्रोत का उल्लेख नहीं किया गया। इजराइली मीडिया का देश की सैन्य एवं खुफिया एजेंसियों के साथ नजदीकी संबंध है। यदि इजराइल इसके लिए जिम्मेदार है तो इससे दोनों देशों के बीच संबंधों में तनाव और बढ़ सकता है। दोनों देशों में पहले से तनाव है। सरकारी टेलीविजन के अनुसार सालेही ने कहा, ''इस आतंकवादी आंदोलन के लक्ष्य को विफल करने के लिए ईरान एक तरफ परमाणु तकनीक में गंभीरता से सुधार जारी रखेगा और दूसरी ओर दमनकारी प्रतिबंधों को हटाने के लिए भी प्रयास जारी रखेगा।

मोसाद ने किया ये,ईरान नौ महीने पिछड़ा

खबरों के मुताबिक इजरायल की खुफिया एजेंसी मोसाद के खुफ‍िया दस्‍ते ने बम विस्‍फोट करके ईरान के मुख्‍य परमाणु संयंत्र नतांज के बिजली आपूर्ति व्‍यवस्‍था को बुरी तरह से तबाह कर दिया है। इससे ईरान को अब फिर से यूरेनियम का संवर्द्धन करने में कम से कम 9 महीने लगेगा। उधर, इजरायल की इस कार्रवाई से ईरान भड़क उठा है और ईरानी विदेश मंत्री ने बदला लेने की धमकी दी है।

ईरान इजरायली कार्रवाई को 'परमाणु आतंकवाद' की संज्ञा दी है। न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक यह एक जोरदार विस्‍फोट था जिससे पूरा संयंत्र अंधेरे में डूब गया। इस हमले में परमाणु केंद्र का सेंट्रीफ्यूज़ क्षतिग्रस्त हो गया था जिसका इस्तेमाल वहां पर यूरेनियम संवर्धन के लिए किया जाता है। इस विस्‍फोट से अत्‍यंत सुरक्षा घेरे में रहने वाले परमाणु संयंत्र की सुरक्षा को लेकर एक बार फिर से सवाल उठने लगा है। इसी आंतरिक बिजली सिस्‍टम से सेंट्रीफ्यूज चलते थे जो परमाणु ऊर्जा को संवर्द्धित करते हैं।

Next Story
Share it