Top
Pradesh Jagran

मेहुल चोकसी को भारत लाने की तैयारी हुई तेज़,वकील बोले- बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना

मेहुल चोकसी को भारत लाने की तैयारी  हुई तेज़,वकील बोले- बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना
X

भरतीय भगोड़े हीरा करोबारी मेहुल चौकसी को आज डॉमिनिका से भारत वापस लाया जा सकता हैं.डोमिनिक की एक कोर्ट ने चोकसी के भारत भेजे जाने को लेकर बुधवार को हुई सुनवाई पर फैसला गुरुवार तक के लिए टाल दिया है। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनी। मेहुल चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने कहा कि मजिस्ट्रेट के आदेश के आधार पर कल कोर्ट में फिर से चर्चा होगी। विजय अग्रवाल ने आगे कहा है कि इसने हमारे रुख को साबित कर दिया कि डोमिनिकन पुलिस ने 72 घंटों के भीतर पेश नहीं करना अवैध था। कोर्ट ने सहमति जताते हुए कहा कि गड़बड़ी को ठीक करने की जरूरत है। चोकसी को डोमिनिका से भारत लाने की कोशिशों पर अग्रवाल ने कहा कि 'बेगानी शादी में अब्‍दुल्‍ला दीवाना'।

चोकसी को डोमिनिका की अदालत में भारतीय समयानुसार शाम साढ़े छह बजे के करीब पेश किया जाएगा। डोमिनिका की कोर्ट देश में अवैध रूप से घुसे चोकसी पर यह फैसला सुनाएगी कि क्या उसे भारत के हवाले किया जाए या फिर वापस एंटीगा भेज दिया जाए। सूत्रों के मुताबिक ईडी भी डोमिनिका के कोर्ट में अलग से अर्जी दाखिल करेगा। इसमें उसके गुनाह और भारत प्रत्यर्पण के लिए जरूरी दलीलें होंगी।

भारत को कोर्ट में साबित करना होगा

सीबीआई और ईडी के अधिकारयों को कोर्ट में यह साबित करना है कि चोकसी अभी भी भारतीय नागरिक ही है। उसकी अभी तक नागरिकता खत्म नहीं हुई है। एंटीगा में बसने से पहले चोकसी ने नागरिकता त्यागने के लिए जरूरी कागजी कार्रवाई पूरी नहीं की है।

भारतीय बैकों से धोखाधड़ी करके देश से भागे हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी को डोमिनिका से बड़ा झटका लगा है। डोमिनिका सरकार ने कोर्ट में बुधवार को कहा कि मेहुल चोकसी को भारत को सौंप दिया जाए। सरकार ने साफ-साफ कहा है कि मेहुल चोकसी की याचिका वैध नहीं है और कोर्ट को उसे सुनना नहीं चाहिए।

भाई ने की विपक्षी नेता से की मुलाक़ात

एंटिगा के ऑनलाइन पोर्टल एसोसिएट्स टाइम्स ने खबर प्रकाशित की है कि मेहुल चोकसी का भाई चेतन चीनू चोकसी (Chetan Choksi) भी 29 मई को प्राइवेट जेट से डोमिनिका पहुंच गया था. उसने वहां के विपक्ष के नेता लेनोक्स लिंटन से मुलाकात की थी. एसोसिएट्स टाइम्स का दावा है कि चेतन चोकसी ने डोमिनिका के विपक्षी नेता लेनोक्स लिंटन को घूस के तौर पर 2 लाख अमेरिकी डॉलर दिए हैं.

चोकसी पर डोमिनिका में अवैध तरीके से दाखिल होने का भी आरोप है। डोमिनिका में विपक्षी पार्टी इस बात पर दबाव बना रही है कि चोकसी को ऐंटीगा भेज दिया जाए जबकि ऐंटीगा के प्रधानमंत्री गैस्टॉन ब्राउन का दावा है कि चोकसी अभी भारतीय नागरिक ही है। उनका कहना है कि ऐंटीगा की ओर से चोकसी को उसकी नागरिकता न देने का नोटिस भेजा गया था जिस पर उसने स्टे ले लिया था। गैस्टॉन की यह दलील भारतीय एजेंसियों के काम आ सकती है।

मेहुल नहीं है अब भारतीय नागरिक

मेहुल चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने इससे पहले कहा कि जिस वक्त गीतांजलि समूह के अध्यक्ष और व्यापारी चोकसी ने एंटीगा की नागरिकता हासिल कर ली, वह भारत का नागरिक नहीं रह गया है। इसलिए कानूनी रूप से इमिग्रेशन और पासपोर्ट ऐक्ट के सेक्शन 17 और 23 के अनुसार उसे सिर्फ एंटीगुआ ही भेजा जा सकता है। वकील ने दावा किया है कि एंटीगुआ के अधिकारियों के बयान के विपरीत चोकसी डोमिनिका भागा नहीं था। उसे हनी ट्रैप के जरिए फंसाया गया था और अगवा कर लिया गया था।

Next Story
Share it