Top
Pradesh Jagran

पंचायत चुनाव 2021 में बीजेपी हुई बेदम,बीजेपी के गढ़ में सपा ने दिखाया दम

पंचायत चुनाव 2021 में बीजेपी हुई बेदम,बीजेपी के गढ़ में सपा ने दिखाया दम
X

उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव चार चरणों में हुए और इनकी मतगणना चल रही है.कई क्षेत्रों में चुनाव परिणाम आ चुके हैं लेकिन कुछ जगहों पर अभी भी काउंटिंग चल रही है.इस पंचायत चुनाव में परिणाम कहीं बीजेपी के पक्ष में हैं तो कहीं सपा ने बाजी मारी है.

अयोध्या,काशी और मथुरा में सपा को मिली जीत

इस बीच भारतीय जनता पार्टी को वाराणसी, अयोध्‍या और मथुरा में करारी शिकस्‍त मिली है. जबकि इन जिलों पर यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने अपने अब तक के चार साल के कार्यकाल में खासी मेहरबानी दिखाई है. भाजपा सरकार के एजेंडे में शामिल रहे इन तीनों जिलों में समाजवादी पार्टी और बसपा को बड़ी जीत मिली है.

पीएम मोदी के गढ़ में सेंध

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में जिला पंचायत की 40 में से महज 8 सीटें ही बीजेपी के खाते में आई हैं। वहीं सपा के खाते में 14 सीटें और बीएसपी के खाते में 5 सीटें आई हैं। यहां अपना दल (एस) को 3 सीटें, आम आदमी पार्टी और सुभासपा को 1-1 सीटें मिली हैं। वहीं 3 निर्दलीय कैंडिडेट को जीत मिली है।

मथुरा में कमाल नहीं कर पाए कैबिनेट मंत्री

मथुरा में भी बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा है। यहां मायावती की बीएसपी ने 12 और चौधरी अजीत सिंह की राष्ट्रीय लोकदल ने 9 सीटों पर परचम लहराया है। बीजेपी की झोली में 8 सीटें आईं। वहीं सपा ने एक सीट मात्र से अपना खाता ही खोला। कांग्रेस का खाता तक नहीं खुल सका और 3 निर्दलीय प्रत्याशी जीत गए। इस बेल्ट के किसानों ने भी कृषि आंदोलन के विरोध में प्रदर्शन किया था।जबकि प्रदेश के कैबिनेट और ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा का ये विधानसभा क्षेत्र है.

अयोध्या में लहराया सपा का परचम

अयोध्या में भी बीजेपी का हाल खस्ता ही रहा। जिले की 40 जिला पंचायत सीटों में से 24 पर समाजवादी पार्टी ने जीत दर्ज की है। बीजेपी के खाते में महज 6 सीटें ही आईं। बाकी पर निर्दलियों ने कब्जा जमाया। जनपद में करीब एक दर्जन बीजेपी नेताओं ने टिकट ना मिलने की वजह से बगावत कर दिया था।

काशी, मथुरा और अयोध्या बीजेपी एजेंडे शामिल

आपको बता दें,काशी, अयोध्‍या और मथुरा भाजपा सरकार के एजेंडे में टॉप पर हैं और उसने धार्मिक वजह से अहम इन जिलों में विकास के लिए कोई कोताही नहीं रखी, लेकिन पंचायत चुनाव में भाजपा की शिकस्‍त का सामना करना पड़ा.

यही नहीं, यूपी पंचायत चुनाव को 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव का सेमीफाइनल माना जा रहा है और समाजवादी पार्टी ने जोरदार टक्‍कर देकर अपनी ताकत का एहसास कर दिया है. कई जगह बसपा ने भी दम दिखाया है.

Next Story
Share it