Top
Pradesh Jagran

बिहार में तेज़ी से बढ़ रहे कोरोना के मामले,मुख्य सचिव की भी हुई कोरोना से मौत

बिहार में तेज़ी से बढ़ रहे कोरोना के मामले,मुख्य सचिव की भी हुई कोरोना से मौत
X

कोरोना दिन ब दिन पूरे देश में बढ़ता जा रहा है साथ सभी राज्यों से कोरोना के मामले बढ़ने की खबरें आ रही है.बिहार में भी कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है. अब पिछले 24 घंटे 15853 नए संक्रमित मरीज मिले हैं. ये कोरोना की दूसरी लहर में अब तक राज्य में मिले संक्रमित मरीजों की सबसे बड़ी संख्या है. वहीं पटना में सबसे ज्यादा 2844 मरीज मिले हैं. इससे एक दिन पहले सूबे में 13374 कोरोना के नए मरीज मिले थे. वहीं 84 लोगों की मौत हो गई थी. अब हालात और बिगड़ते जा रहे हैं और लगातार कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है. बड़े जिलों पर नजर डाली जाए तो एक दिन में बेगूसराय में 786, गया में 1203, मुजफ्फरपुर में 638, समस्तीपुर में 500, वेस्ट चम्पारण में 573 और नालन्दा में 881 लोग इस संक्रमण की चपेट में आ गए हैं.

इन जिलों में सौ से अधिक नए संक्रमित मिले

राज्य के 28 जिलों में सौ से अधिक नए कोरोना संक्रमितों की पहचान की गई। अररिया में 219, अरवल में 129, औरंगाबाद में 436, बांका में 249, भागलपुर में 443, भोजपुर में 138, दरभंगा में 213, पूर्वी चंपारण में 251, गोपालगंज में 348, जमुई में 305, जहानाबाद में 177, कैमूर में 131, कटिहार में 280, खगड़िया में 270, किशनगंज में 162, लखीसराय में 178, मधेपुरा में 346, मधुबनी में 490, मुंगेर में 191, नवादा में 150, रोहतास में 274, सहरसा में 328, सारण में 457, शेखपुरा में 151, सीतामढ़ी में 150, सीवान में 406, सुपौल में 391 और वैशाली में 315 नए कोरोना संक्रमितों की पहचान की गई।

मुख्य सचिव की मौत हुई कोरोना से

बिहार के मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह मौत भी कोरोना से हो गयी. अरुण कुमार 1985 बैच के आईएएस अधिकारी थे.मुख्य सचिव की मृत्य पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दुःख व्यक्त किया।

29 दिन में बढ़ गए 53 गुना मरीज

गौरतलब है कि कोरोना की दूसरी लहर में महज 29 दिनों में ही 53 गुना मरीज बढ़ गए हैं. विगत 1 अप्रैल को राज्य में एक्टिव मरीजों की संख्या 1907 थी, जो 15 अप्रैल को 25 हजार और 20 अप्रैल को 50 हजार को पार कर गई. अब यह संख्या एक लाख 821 हाे गई है. इस तरह 29 दिनों में एक्टिव मरीजों की संख्या में लगभग 53 गुना बढ़ोतरी हुई है.

वहीं, बिहार में बुधवार को आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में लोगों के मूवमेंट को कम करने के लिए सभी दुकानें और कारोबारी प्रतिष्ठान शाम 4 बजे ही बंद करने का फैसला किया गया. पहले यह छूट शाम 6 बजे तक थी. नाइट कर्फ्यू अब रात 9 बजे की बजाय शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू है. यह आदेश अगले 15 मई तक के लिए है, पर कोरोना की तेज रफ्तार देख शुक्रवार को मंत्रिमंडल की होने वाली अहम बैठक में सख्त निर्णय लिए जाने की संभावना है.

Next Story
Share it