Top
Pradesh Jagran

कोरोना को लेकर यूपी सरकार की क्या हैं तैयारियां ?जानें यहाँ

कोरोना को लेकर यूपी सरकार की क्या हैं तैयारियां ?जानें यहाँ
X

उत्तर प्रदेश में कोरोना का कहर जारी है.जहाँ एक तरफ यूपी में केस अब कुछ कम होते दिखाई पद रहे हैं तो सरकार की तैयारियां भी तेज़ हो रहीं हैं. योगी सरकार ने आज मीटिंग में विभिन्न मुद्दों और कोरोना नियंत्रण को लेकर जानकरी ली और अधिकारीयों को कड़े निर्देश दिए.

बढ़ाई जा रही बेडों की संख्या

अपर मुख्य सचिव 'सूचना' नवनीत सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशानुसार प्रदेश सरकार द्वारा कोविड संक्रमण को नियंत्रित करने की सभी व्यवस्थाए की जा रही हैं। प्रदेश में कोविड प्रबंधन को पूरी प्रतिबद्धता के साथ लागू कर इस महामारी को रोकने की कार्यवाही की जा रही है, जिससे संक्रमण के प्रसार में कमी आयी है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्रीने कोविड-19 प्रबंधन टीम को निर्देशित किया है कि प्रदेश में कोविड बेडों की संख्या लगातार बढ़ाई जाए। जिसके क्रम में अब तक एल-1 स्तर के अस्पतालों में 01 लाख 16 हजार तथा एल-2 एवं एल-3 स्तर के अस्पतालों में 65 हजार बेड की व्यवस्था की गई है। प्रदेश में 2,38,856 कोविड मरीज होम आइसोलेशन में रहकर अपना इलाज करा रहे हैं। इन मरीजों को प्रदेश सरकार द्वारा मेडिकल किट उपलब्ध कराई जा रही है। इसके अलावा टेलीफोन के माध्यम से होम आइसोलेशन के मरीजों को चिकित्सीय सलाह भी दी जा रही है।

साप्ताहिक बंदी में हुआ बदलाव

सहगल ने बताया कि प्रदेश में कोविड संक्रमण को नियंत्रित करने हेतु साप्ताहिक बंदी में बदलाव करते हुए इसे अब शुक्रवार रात्रि 08ः00 बजे से मंगलवार प्रातः 07ः00 बजे तक करने का निर्णय लिया गया है। इस अवधि में केवल आवश्यक और अनिवार्य सेवाएं ही जारी रहेंगी। औद्योगिक गतिविधियां, माल ढुलाई तथा वैक्सीनेशन का कार्य साप्ताहिक बंदी में भी जारी रहेंगे। इस अवधि में शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में साफ-सफाई तथा सैनिटाइजेशन का अभियान चलाया जायेगा। प्रदेश में आॅक्सीजन की उपलब्धता निरन्तर बढ़ाई जा रही है।

उन्होंने बताया कि पिछले कोविड संक्रमण की अपेक्षा इस बार का कोविड संक्रमण 30-50 गुना अधिक है। राज्य सरकार सभी व्यवस्था की समुचित तैयारी कर रही है ताकि कोरोना से मजबूती से लड़ाई लड़ी जा सके। प्रदेश में वैक्सीनेशन का कार्य चल रहा है। 01 मई, 2021 से 18-35 आयु वाले लोगों का वैक्सीनेशन किया जायेगा। इसके लिए 01 करोड़ डोज का आर्डर किया गया है। कोविड वैक्सीनेशन के लिए पात्र व्यक्ति अपना वैक्सीनेशन जरूर करवायें।

600 मीट्रिक तन ऑक्सीजन सप्लाई हुई

अपर मुख्य सचिव गृह एवं गोपन अवनीश अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में 600 मी0टन से अधिक की आॅक्सीजन सप्लाई की गई है। उन्होंने बताया कि हिण्डन कंपनी के 02 बड़े 29 टन के आॅक्सीजन टैंकर की सप्लाई केजीएमयू तथा एसजीपीजीआई की गई है। इसके साथ ही केजीएमयू में आॅक्सीजनयुक्त बेडों की संख्या बढ़ाने की व्यवस्था कर दी गई। उन्होंने बताया कि जमशेदपुर से आॅक्सीजन के टैंकर प्राप्त करने करने की व्यवस्था की गई है। 84-85 टैंकरों को अपग्रेड किया जा रहा है। इन टैंकरों को आने व जाने के लिए ग्रीन काॅरिडोर दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आज 03ः30 बजे बोकारो से लखनऊ में ट्रेन के माध्यम 05 आॅक्सीजन टैंकर आगरा एवं कानपुर के लिए आये हैं। लखनऊ एअरपोर्ट से आॅक्सीजन के लिए राँची टैंकर भेजा जाएगा। उन्होंने लोगों से कहा है कि आॅक्सीजन की कालाबाजारी से संबंधित जानकारी सीधे थाने में दें।

टेस्टिंग बढ़ाई जा रही

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मित मोहन प्रसाद ने बताया प्रदेश में बड़ी संख्या में टेस्टिंग कार्य करते हुए, टेस्टिंग क्षमता निरन्तर बढ़ायी जा रही है। गत एक दिन में कुल 2,25,312 सैम्पल की जांच की गयी, जिसमें से 1,07,000 से अधिक RTPCTR र में माध्यम से जांच की गई तथा 23,000 से अधिक निजी प्रयोगशालाओं में जांच की गई। प्रदेश में अब तक कुल 4,05,53,875 सैम्पल की जांच की गयी है।विभिन्न जनपदों द्वारा गत दिवस 97,126 सैम्पल आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए भेजे गए हैं।उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश 04 करोड़ से अधिक टेस्ट करने वाला देश में प्रथम राज्य है।

35 हज़ार से ज्यादा नए मामले

उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना सेे संक्रमित 35,156 नये मामले आये हैं तथा 25,613 मरीज संक्रमणमुक्त हुए हैं। इस प्रकार अब तक कुल 8,96,477 से अधिक लोग कोविड संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। प्रदेश में कुल कोरोना के एक्टिव मामलों में से 2,38,856 व्यक्ति होम आइसोलेशन में हैं तथा 7,663 निजी चिकित्सालयों में एवं शेष सरकारी अस्पतालों में इलाज करा रहे हैं।

जनसंख्या का सर्वेक्षण जारी

प्रसाद ने बताया कि सर्विलांस की कार्यवाही निरन्तर चल रही है। प्रदेश में अब तक सर्विलांस टीम के माध्यम से 2,39,887 क्षेत्रों में 5,78,797 टीम दिवस के माध्यम से 3,37,17,217 घरों के 16,27,38,334 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। प्रदेश में 45 वर्ष से अधिक आयु वालों का कोविड वैक्सीनेशन किया जा रहा है। अब तक 1,41,134 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी गई तथा पहली डोज वाले लोगों में से 21,56,203 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गई। इस प्रकार कुल 1,21,97,337 वैक्सीन की डोज लगायी जा चुकी है। उन्होंने बताया कि 01 मई, 2021 से 18 से 35 वर्ष वाले लोगों का वैक्सीनेशन किया जायेगा, इसके लिए पात्र व्यक्ति अपना पंजीकरण कराते हुए वैक्सीनेशन करायें। कोविड टीकाकरण का कार्य सुचारू रूप संचालित हो इसके लिए प्रदेश सरकार ने ग्लोबल टेंडर जारी करने का निर्णय लिया है।

प्रसाद ने बताया कि प्राइवेट अस्पतालों तथा नर्सिंग होम के रजिस्ट्रेशन 30 अप्रैल, 2021 तक मान्य था, जिसे बढ़ाकर 31 जुलाई, 2021 कर दिया गया है। लखनऊ में डीआरडीओ का अस्पताल भारत सरकार से वार्ता करके बनाया जा रहा है। पूर्व में प्रधानमंत्री केयर फण्ड के द्वारा 14 आॅक्सीजन जनरेट प्लाण्ट बनाये गये थे। उन्होंने कहा कि आॅक्सीजन उपलब्धता बढ़ाने के लिए युद्धस्तर पर प्रयास किये जा रहे हैं। इस बार भारत सरकार को 61 जनपदों में आॅक्सीजन जनरेट प्लाण्ट बनाने के लिए प्रस्ताव भेजा गया है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा भी आॅक्सीजन कंसंट्रेटर प्लाण्ट बनाने का कार्य किया जा रहा है। जिसके अन्तर्गत सभी सीएचसी में आॅक्सीजन कंसंटेªटर प्लाण्ट लगाये जायेंगे।

मेडिकल कॉलेज में बढ़ाये गए बेड

प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा आलोक कुमार ने बताया कि प्रदेश में कुल 57 मेडिकल कालेज हैं, जिनमें 24 शासकीय और 33 निजी मेडिकालेज हैं। इन मेडिकल कालेजों में 18,181 बेड की व्यवस्था की गई है, जिसमें 12,659 आइसोलेशन बेड हैं और 5,522 आईसीयू के बेड हैं। उन्होंने बताया कि 01 मार्च के बाद 9,000 बेड अतिरिक्त बढ़ाये गये हैं, जिसमें 6,000 आइसोलेशन के तथा 2,705 आईसीयू के बेड हैं। उन्होंने बताया कि एक से डेढ़ महीने की अवधि में आईसीयू बेडों की संख्या डबल की गई है। इसके अलावा आरटीपीसीआर की टेस्ट अधिक से अधिक किए जा रहे हैं। आज 1,07,545 टेस्ट आरटीपीसीआर के माध्यम से किए गए हैं। इन टेस्टों की संख्या को डबल करने के लक्ष्य को लेकर 60 आरटीपीसीआर मशीन क्रय करने आदेश जारी कर दिया गया है। इसके अलावा 582 टेक्शीनिशियन एवं लैब अटेन्डेट और माइक्रोबायोलाॅजिस्ट के पदों स्वीकृत करते हुए इन पदों को भर लिया गया है। इनका प्रशिक्षण शुक्रवार से प्रारम्भ होगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा आॅक्सीजन की सप्लाई के लिए कई कदम उठाये गये हैं। नेशनल मेडिकल कमीशन के द्वारा 21 अप्रैल को अपने नोटिफिकेशन में सभी मेडिकल कालेजों के लिए दोनों आॅक्सीजन से चलने वाले संयंत्र जिसमें लिक्एिड तथा एअर बनने वाली आॅक्सीजन हेतु आवश्यक व्यवस्थाएं कर दी गई हैं। चिकित्सा एवं शिक्षा विभाग द्वारा सभी मेडिकल कालेजों में दोनों तरह के आॅक्सीजन संयंत्र लगायेंगे। जिसके क्रम में अभी 17 सरकारी मेडिकल कालेजों में एअर आॅक्सीजन संयंत्र प्लाण्ट लगाने का आर्डर किया जा रहा है और जिसे मई के आखिरी तक पूर्ण कर लिया जायेगा।

Next Story
Share it