Top
Pradesh Jagran

यूपी के इन मंत्रियों ने अपनी विधायक निधि से दिए कोरोना की व्यवस्था के लिए पैसे

यूपी के इन मंत्रियों ने अपनी विधायक निधि से दिए कोरोना की व्यवस्था के लिए पैसे
X

उत्तर प्रदेश के ग्राम्य विकास एवं समग्र विकास मंत्री राजेन्द्र प्रताप सिंह 'मोती सिंह' ने जनपद प्रतापगढ़ की विधानसभा पट्टी के राजकीय चिकित्सालयों में आॅक्सीजन एवं अन्य आवश्यक व्यवस्था के लिए कोविड केयर फण्ड में अपने विधायक निधि से एक करोड़़ रूपये की धनराशि दी है। इस संबंध में उन्होंने जिलाधिकारी/मुख्य विकास अधिकारी प्रतापगढ़ को आज 27 अप्रैल, 2021 को पत्र लिखकर अग्रेतर कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की है।

राजेन्द्र प्रताप सिंह ने अपने पत्र में कहा है कि मौजूदा समय में कोरोना महामारी के दूसरे चरण के प्रकोप से पूरा देश ग्रसित है। राज्य सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम तथा उपचार के लिए हर स्तर पर समुचित व्यवस्था करायी जा रही है। इस महामारी से लोगों की जान बचाने के लिए अत्यधिक संसाधन एवं धन की अवश्यकता है। इसको दृष्टिगत रखते हुए यह एक करोड़ रूपये की धनराशि उपलब्ध करायी जा रही है।

बेसिक शिक्षा मंत्री ने भी दिया 25 लाख रुपये

प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ सतीष चंद्र द्विवेदी ने अपनी विधायक निधि 25 लाख रुपये की धनराशि अपने गृह जनपद सिद्धार्थनगर में कोविड-19 महामारी के पुनः बढ़ते संक्रमण से प्रभावित जनपद वासियों के जीवन की रक्षा के लिए आवश्यक उपकरणों की खरीद के लिए दी,इस सम्बन्ध में उन्होंने CMO को पात्र भी लिखा।

जलशक्ति मंत्री ने दिए एक करोड़

उत्तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डा0 महेन्द्र सिंह ने कोरोना महामारी के रोकथाम तथा इसे ग्रसित लोगों को समुचित ईलाज की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए अपने विधानमण्डल विकास निधि से एक करोड़ रूपये की धनराशि ''मुख्यमंत्री कोविड केयर फण्ड'' में दिये जाने की स्वीकृति प्रदान की है। इस संबंध में उन्होंने जिलाधिकारी/मुख्य विकास अधिकारी लखनऊ को कल 26 अप्रैल, 2021 को पत्र लिखकर अग्रेतर कार्यवाही किये जाने की अपेक्षा की है।

डा0 महेन्द्र सिंह ने अपने पत्र में कहा है कि मौजूदा समय में कोरोना महामारी के दूसरे चरण के प्रकोप से पूरा देश ग्रसित है। राज्य सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम तथा उपचार के लिए हर स्तर पर समुचित व्यवस्था करायी जा रही है। इस महामारी से लोगों की जान बचाने के लिए अत्यधिक संसाधन एवं धन की अवश्यकता है। इसको दृष्टिगत रखते हुए यह एक करोड़ रूपये की धनराशि उपलब्ध करायी जा रही है।

Next Story
Share it