Top
Pradesh Jagran

कोरोना:रिसर्च में डराने वाला खुलासा,मई में अपने पीक पर होगा संक्रमण,रहे सतर्क

कोरोना:रिसर्च में डराने वाला खुलासा,मई में अपने पीक पर होगा संक्रमण,रहे सतर्क
X

कोरोना की दूसरी बेहद जानलेवा और डरावनी है.आये दिन बढ़ते संक्रमण के मामले और मौतें लोगो को डरा रहीं हैं.इस बीच एक खबर और आ रही कि मई माह में ये और बढ़ेगा और अपने चरम पर होगा। देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1 करोड़ 73 लाख 13 हजार 163 हो गई है. पिछले 24 घंटे में कारोना वायरस संक्रमण के 3,52,991 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 2812 लोगों की मौत हुई है.

दुनिया में जारी है रिसर्च

कोविड-19 (Covid-19) को लेकर पूरी दुनिया में स्टडी और रिसर्च जारी है. जिसके तहत एक थ्योरी ये भी है कि पीक पर जाने के बाद स्थिति सामान्य होती है यानी संक्रमण कम होने लगता है. इस बीच देश में देश के वैज्ञानिकों ने अपने गणितीय आंकलन से दूसरी लहर को लेकर एक डरावना आंकड़ा जारी किया है.

14 से 18 मई के बीच पीक पर होगी संक्रमण की रफ़्तार

दरअसल आईआईटी के वैज्ञानिकों ने अपने गणितीय मॉडल के आधार पर अनुमान लगाया है कि भारत में महामारी की दूसरी लहर 14 से 18 मई के बीच चरम यानी पीक पर होगी. उस दौरान देश में सक्रिय मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 38 से 48 लाख तक पहुंच सकती है. उसके बाद मई के अंत तक मामलों में तेजी से कमी आएगी. वर्ल्डोमीटर की रिपोर्ट के मुताबिक 25 अप्रैल तक देश में 28 लाख से ज्यादा एक्टिव केस हैं. नए पूर्वानुमान में समयसीमा और मामलों की संख्या में सुधार किया गया है.

इतना ही नहीं, चार से आठ मई के बीच संक्रमण के दैनिक मामलों की संख्या 4.4 लाख तक के आंकड़े को छू सकती है। भारत में सोमवार को संक्रमण के 3,52,991 नए मामले सामने आए तथा महामारी से 2,812 और लोगों ने दम तोड़ दिया। इसके साथ ही देश में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 28,13,658 हो गई।

आईआईटी कानपुर और हैदराबाद के वैज्ञानिकों ने 'सूत्र' नाम के मॉडल का इस्तेमाल करते हुए कहा कि मई के मध्य तक उपचाराधीन मामलों की संख्या में 10 लाख से अधिक तक की वृद्धि हो सकती है। नए पूर्वानुमान में समयसीमा और मामलों की संख्या में सुधार किया गया है।

पिछले सप्ताह, अनुसंधानकर्ताओं ने पूर्वानुमान व्यक्त किया था कि महामारी 11 से 15 मई के बीच चरम पर पहुंच सकती है और उपचाराधीन मामलों की संख्या 33-35 लाख तक हो सकती है तथा मई के अंत तक इसमें तेजी से कमी आएगी।

Next Story
Share it