Top
Pradesh Jagran

कामधेनु आयोग का दावा, गाय के गोबर से बनी चिप रोक सकती है मोबाइल रेडिएशन

कामधेनु आयोग का दावा, गाय के गोबर से बनी चिप रोक सकती है मोबाइल रेडिएशन
X

देश में गाय के गोबर को लेकर कई तरह के दावे किए जाते रहे हैं। इसी कड़ी में राष्ट्रीय कामधेनु आयोग ने गाय के गोबर से बना एक चिप लॉन्च किया है। आयोग का दावा है कि इससे मोबाइल हैंडसेट्स का रेडिएशन काफी हद तक कम हो जाता है। यह दावा राष्ट्रीय कामधेनु आयोग (आरकेए) के अध्यक्ष वल्लभभाई कथीरिया की तरफ से किया गया है।

कथीरिया ने सोमवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में गोबर से बने चिप, दिए और शुभ-लाभ चिह्न भी दिखाए। उन्होंने कहा कि गाय के गोबर से सबकी रक्षा होगी। ये सब कुछ घर में आएगा तो घर रेडिएशन फ्री हो जाएगा।

देश में इस बार कामधेनु दीपावली अभियान

दरअसल गाय के गोबर को देश की अर्थव्यवस्था से जोडऩे को लेकर राष्ट्रीय कामधेनु आयोग इस बार दीपावली से पहले कामधेनु दीपावली अभियान चला रहा है। आयोग के अध्यक्ष कथीरिया ने यह भी बताया कि दीपावली के पहले पूरे देश में गोबर से 33 करोड़ दीपक बनाए जाएंगे। इसके अलावा गोबर से लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति और सजावट की वस्तुओं का भी निर्माण किया जाएगा। कथीरिया ने गाय के गोबर से बनी एक चिप का भी अनावरण किया और दावा किया कि यह मोबाइल हैंडसेट से निकलने वाले रेडिएशन को काफी कम कर देता है।

ट्रेनिंग देगा आयोग

आयोग इन वस्तुओं के निर्माण के लिए गैर सरकारी संगठनों को प्रशिक्षण देगा। इसके साथ ही वह इन संस्थाओं को मशीन और कच्चा माल भी उपलब्ध कराएगा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश सरकार ने एक-एक लाख दीपक की मांग की है तथा इसी से मिलती जुलती मांग अन्य राज्य सरकारों ने की है ।

कथीरिया ने कहा कि अज्ञानतावश गाय को धर्म के साथ जोडक़र रखा गया है जबकि इसे विज्ञान से जोडऩे की जरूरत है। गाय के गोबर से जैविक ऊर्वरक तैयार करने से न केवल फसलों का उत्पादन बढ़ेगा बल्कि स्वच्छ भारत अभियान को भी बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि बहुत सारी गोशालायें आर्थिक संकट का सामना कर रहीं हैं, जिसके कारण दीपावली के बाद भी इस अभियान को जारी रखा जाएगा। गाय के गोबर से अब तक करीब एक सौ वस्तुओं का निर्माण किया गया है।

Next Story
Share it