Breaking News
Donate Now

कश्मीर मुद्दे पर भारत की तुर्की को दो टूक, अंदरूनी मामलों में दखल बर्दाश्त नहीं

तुर्की ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र महासभा में कश्मीर का मुद्दा उठाया है. जिस पर भारत ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा है कि अंदरूनी मामलों में तुर्की दखलअंदाजी न करे. तुर्की के राष्ट्रपति रिजेप तैयप एर्दोआन ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75वें सेशन में यह मुद्दा उठाया.

UNGA में एक पहले से रिकॉर्ड वीडियो के जरिए एर्दोआन ने संदेश देते हुए कश्मीर मुद्दे को ज्वलंत बताया. उन्होंने कश्मीर से धारा 370 के हटाए जाने की आलोचना करते हुए कहा कि इससे समस्या और गंभीर हो गई है. दक्षिण एशिया में स्थिरता के लिए कश्मीर का मुद्दा बेहद अहम है. इसे संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के तहत बातचीत के जरिए हल किया जाना चाहिए.

अपनी नीतियों पर विचार करे तुर्की

इस पर UN में भारत के स्थाई प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने ट्वीट करते हुए कहा ”हमने केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के बारे में तुर्की के राष्ट्रपति का बयान देखा. यह भारत के मामलों में बड़ी दखलअंदाजी है. ऐसी बातें मानने लायक नहीं हैं. तुर्की को दूसरे देशों की संप्रभुता का सम्मान करना सीखना चाहिए. वो अपनी नीतियों पर गहराई से गौर करें.”

तुर्की उन चुनिंदा देशों में से है जो लगातार कश्मीर के मामले पर पाकिस्तान का समर्थन कर रहा है. पिछले साल एर्दोआन ने कश्मीर का मुद्दा जनरल असेंबली हॉल में हाई लेवल जनरल डिबेट में उठाया था.

15 सितंबर से शुरू हुआ है UNGA का सेशन

UNGA का 75वां सेशन 15 सितंबर से शुरू हुआ है. कोरोना महामरी को ध्यान में रखते हुए यह ऑनलाइन कराया जा रहा है. दुनियाभर के नेता इसमें अपने भाषण रिकॉर्ड करके भेज रहे हैं. 26 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण होगा.

इसके एक दिन बाद प्रधानमंत्री इमरान खान का भाषण होगा. पाकिस्तान कई बार कश्मीर का मुद्दा उठाता रहा है.
error: Content is protected !!