Breaking News
Donate Now

रेलवे वैकेंसी को लेकर रेलवे बोर्ड की सफाई, सभी नोटिफिएड पदों पर की जाएगी नियुक्ति

कोरोना और लॉक डाउन की वजह से आर्थिक तंगी झेल रहे रेलवे एक इंटरनल आदेश ने हंगामा खड़ा कर दिया है। भारतोय रेलवे बोर्ड के तरफ से जारी आदेश के आने वाले समय मे नॉन सेफ्टी कैटेगरी में 50 फीसदी जॉब्स कटौती की बात कही गई थी। ऐसे में जो नियुक्तिया प्रोसेस में थे उनमें आवेदको को लगने लगा कि रेलवे नियुक्ति नहीं करेगा। या फिर पदों में कटौती।

गौरतलब है कि रेलवे के नए आदेश के बाद ये खबरें आई थी कि भारतीय रेलवे  ने सेफ्टी को छोड़कर सभी नए पदों के लिए आवेदन रद्द कर दिए हैं। अगले आदेश तक फिलहाल रेलवे में कोई नई भर्तियां नहीं होंगी। वहीं, मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, पिछले 2 सालों में खाली पदों के लिए भर्ती की समीक्षा की जाएगी। सेफ्टी कैटेगरी को छोड़कर 50 फीसदी पदों के लिए वेकेंसी नहीं निकाली जाएंगी।

ऐसे में इस मामले में रेलवे के तरफ से सफाई दी गई। रेलवे बोर्ड के डीजी (एचआर) आनंद एस खत्री ने बताया कि रेलवे में न तो किसी की नौकरी जा रही है और न ही भर्तियां कम की जा रही है। ट्रेन संचालन और रखरखाव के लिए आवश्यक किसी भी सुरक्षा श्रेणी की नौकरियों को सरेंडर नहीं किया जाएगा। साल 2019 में जो 1,46,640 पोस्ट के लिए भर्ती का प्रोसेस शुरू की गई थी वो जारी है, उसमे कोई बदलाव नही किया गया है। लेकिन 68 हज़ार नॉन सेफ्टी कैटोगरी में भर्ती बची हुई है, इसका रिव्यू किया जा रहा है। आपको बता दें कि मार्च महीने से लागू देशव्‍यापी लॉकडाउन के कारण रेलवे को भारी नुकसान उठा पड़ा है।

रेलवे में इस्तेमाल हो रही आधुनिक टेक्नोलॉजी के जरिए नए सेक्टर्स बन रहे है।गैर-सुरक्षा के खाली पदों को सरेंडर करने से रेलवे इन्फ्रास्ट्रक्चर की नई परियोजनाओं के लिए और ज्यादा सेफ्टी वाली वैकेंसी निकालने में मदद मिलेगी। ऐसे में संसाधनों का सही इस्तेमाल करना बहुत जरूरी है। इसीलिए विभिन्न श्रेणियों के पदों के लिए सभी चल रहे भर्ती अभियान हमेशा की तरह जारी रहेंगे। रेलवे में नौकरियों की कटौती नहीं होगी। रेलवे का 65 फीसदी खर्चा कर्मचारियों की वेतन और पेंशन पर जाता है।

रेलवे की ओर से 12 अगस्‍त तक नियमित ट्रेनों का संचालन भी बंद रहेगा. ऐसे में हो रहे भारी नुकसान को कम करने के लिए रेलवे ने अपने खर्च में कटौती का फैसला लिया है, जिसके अंतर्गत नई भर्तियों पर रोक तथा पुरानी भर्तियों की समीक्षा की जा रही है।

error: Content is protected !!

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com