Top
Pradesh Jagran

अगर आप भी करते हैं शारीरिक संबंध बनाते समय कंडोम का इस्तेमाल, तो जरूर जान लें ये बातें

अगर आप भी करते हैं शारीरिक संबंध बनाते समय कंडोम का इस्तेमाल, तो जरूर जान लें ये बातें
X

अक्सर लोग शारीरिक संबंध बनाने के दौरान अनचाही प्रेगनेंसी से बचने के लिए कंडोम का इस्‍तेमाल करते हैं। जिसकी मदद से आप सेफ शारीरिक संबंध बना सकते हैं। हम भी यही कहते हैं कि आप कंडोम से अनचाहा गर्भ रोक सकते हैं लेकिन अगर आप सोच रहे हैं सेफ सेक्स के बारे में तो शायद आपको फिर से सोचने की जरूरत है।

क्योंकि जो बातें आज हम आपको कंडोम के बारे में बताने जा रहे हैं हो सकता है वो आपका सेफ सेक्स समझने का नजरिया ही बदल दे। कंडोम के ज्यादा इस्तेमाल से होने वाले नुकसान...

इंफेक्शन का खतरा: कंडोम से एचआईवी और यौन संक्रामक रोगों के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है, लेकिन इससे यौन संचारित रोगों का खतरा रहता है। क्योंकि ये बाहरी स्किन को सुरक्षित नहीं रख पाता है, जिससे खुजली और इन्फेक्शन का खतरा रहता है।

गर्भावस्था में जोखिम: हर बार कंडोम का इस्तेमाल करना 100 फीसदी तक सुरक्षित नहीं माना जाता है, इसलिए कंडोम के नुकसान भी हो सकते हैं। कंडोम के सही इस्तेमाल से 98 फीसदी सुरक्षा तो मिलती है लेकिन इसके अनुचित उपयोग से 100 में से 15 महिलाओं को गर्भावस्था का जोखिम रहता है। इसलिए इसका इस्तेमाल सही तरह से करना बहुत जरूरी है। एक्सपायरी कंडोम का इस्तेमाल न करें।

कैंसर को बुलावा: जानकारी के अनुसार अमेरिका के कुछ डॉक्टरों का यह भी दावा है कि पुरुषों में इस्‍तेमाल किए जाने वाले कंडोम से महिला में कुछ गंभीर बीमारी होने का खतरा हो सकता है। बता दें कि कंडोम पर पाउडर और लुब्रिकेंट का इस्तेमाल किया जाता है। कई अध्ययन के अनुसार इस पाउडर से ओवेरियन कैंसर का खतरा होता है और बांझपन का भी खतरा होने का अंदेशा रहता है।

हो सकती है एलर्जी: अधिकतर ब्रांड कंडोम बनाने के लिए लेटेक्स का इस्तेमाल करते हैं। ये एक तरह का तरल पदार्थ होता है, जो रबर के पेड़ से प्राप्त किया जाता है। दी अमेरिकन अकैडमी ऑफ़ एलर्जी अस्थमा एंड म्यूनोलॉजी के अनुसार, कुछ लोगों में रबर में प्रोटीन होने की वजह से एलर्जी के लक्षण देखे गए हैं। ऐसे में सिंथेटिक कंडोम का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।

Next Story
Share it