Breaking News
Donate Now

आतंकियों के आका पाकिस्तान पर एफएटीएफ का चाबुक, इतने सवालों के भेजने हैं जवाब

नई दिल्लीः आतंक पर कार्रवाई न करने की वजह से एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में शामिल हो चुके पाकिस्तान पर अब एक बार फिर एफएटीएफ ने नजर टेढ़ी कर ली है। पाकिस्तान के लिए अब एफएटीएफ के 50 सवाल इमरान सरकार के गले की फांस बन सकते हैं। एफएटीएफ ने आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई सहित 50 बिंदुओं पर पाक से 8 जनवरी तक जवाब भेजने को कहा है।

बता दें कि पाकिस्तान की अनुपालन रिपोर्ट के जवाब में, वित्तीय कार्रवाई कार्यबल यानी एफएटीएफ ने प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व वाली सरकार द्वारा आतंकवाद के खिलाफ की गई कार्रवाई के संबंध में कुल 150 सवाल भेजे हैं। सरकार को इस मामले में आठ जनवरी तक जवाब भेजने हैं।

एफएटीएफ ने अधिकारियों से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि आतंकवादी संगठनों से जुड़े व्यक्तियों को दोषी ठहराया जाए और देश में संचालित मदरसों को विनियमित करने के लिए किए गए कानूनी कार्यों का विवरण भी मांगा है।

सूत्रों की मानें तो एफएटीएफ ने पाकिस्तान को 150 सवालों की एक प्रश्नावली भेजी है। यह सवाल तब भेजे गए जब पाकिस्तान ने अपनी अनुपालन रिपोर्ट जमा कराई। जिसमें इस महीने की शुरुआत में एफएटीएफ द्वारा उठाए गए 22 सवालों के जवाब थे। नए प्रश्नों के का जवाब देते हुए पाकिस्तान एफएटीएफ को मनी लांड्रिंग और आतंकी वित्तपोषण को रोकने के लिए अपने हाल के कार्यों के बारे में सूचित करेगा।

बता दें कि पिछले साल फरवरी में पाकिस्तन को एफएटीएफ ने ग्रे लिस्ट में डाला था। उसे उम्मीद है कि आतंक वित्तपोषण पर नजर रखने वाली संस्था एफएटीएफ अपनी समीक्षा बैठक में 27 सूत्रीय एक्शन प्लान को पूरा करने के लिए तय की गई समसयीमा को फरवरी से बढ़ाकर जून 2020 कर देगी क्योंकि वर्तमान समय कार्रवाईयों को पूरा करने के लिए बहुत कम है। हालांकि एफएटीएफ ने अक्तूबर में हुई बैठक में पहले ही उसकी समयसीमा को फरवरी 2020 तक बढ़ाया था। ऐसे में पाकिस्तान की मंशा पूरा होने के आसार कम ही नजर आते हैं।

error: Content is protected !!