Top
Pradesh Jagran

01 जून से 18 से 44 साल के लोगों का होगा टीकाकरण : योगी आदित्यनाथ

01 जून से 18 से 44 साल के लोगों का होगा टीकाकरण : योगी आदित्यनाथ
X

मुख्यमंत्री ने विन्ध्याचल मण्डल के कोविड प्रबन्धन कार्यों की समीक्षा की


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यना ने मीरजापुर का भ्रमण कर विन्ध्याचल मण्डल के कोविड प्रबन्धन कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर का निरीक्षण तथा मण्डलीय चिकित्सालय के नवनिर्मित ऑक्सीजन प्लाण्ट का लोकार्पण किया। जनपद भ्रमण के दौरान उन्होंने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र गुरसण्डी का निरीक्षण किया तथा ग्राम पंचायत नुआव पहुंचकर निगरानी समिति के सदस्यों से संवाद किया। मुख्यमंत्री जी ने निर्माणाधीन विन्ध्य काॅरीडोर का निरीक्षण तथा मां विन्ध्यवासिनी देवी के मन्दिर में दर्शन-पूजन किया।

मुख्यमंत्री जी ने कलेक्ट्रेट स्थित इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर (आईसीसीसी) के निरीक्षण के दौरान वहां कार्यरत कार्मिकों से संवाद स्थापित करते हुए विभिन्न गतिविधियों की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग, निगरानी समिति, टेलीकंसल्टेंसी, कोविड वैक्सीनेशन आदि के सम्बन्ध में फीडबैक प्राप्त किया और अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने मण्डलीय चिकित्सालय पहुंचकर वहां नवनिर्मित ऑक्सीजन प्लाण्ट का लोकार्पण किया। उन्होंने अधिकारियों को प्लाण्ट का संचालन प्रशिक्षित कर्मचारियों द्वारा कराए जाने के निर्देश दिए। वे अस्पताल के पुरुष वाॅर्ड भी गए, जहां उन्होंने स्वास्थ्य सुविधाओं का निरीक्षण किया और भर्ती मरीजों से वार्ता कर उन्हें उपलब्ध कराए जा रहे उपचार के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने निर्देशित किया कि सम्पूर्ण अस्पताल परिसर सहित सभी वाॅर्डों में स्वच्छता एवं सैनिटाइजेशन पर पूरा ध्यान दिया जाए। चिकित्सालय की व्यवस्थाओं को कोविड प्रोटोकाॅल का पूर्ण पालन करते हुए संचालित रखा जाए।

मुख्यमंत्री ने आयुक्त सभागार में जनप्रतिनिधियों तथा अधिकारियों के साथ आहूत एक बैठक में मण्डल में कोविड नियंत्रण के लिए किए गए कार्यों की गहन समीक्षा की। इस समीक्षा में विन्ध्याचल मण्डल के अन्य जनपदों के अधिकारीगण वर्चुअल माध्यम से सम्मिलित हुए। उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रत्येक सप्ताह एक बार जनप्रतिनिधियों के साथ वर्चुअल बैठक कर स्थानीय समस्याओं और जरूरतों का संज्ञान लेते हुए उसका त्वरित निराकरण कराएं।

मुख्यमंत्री ने निर्देशित किया कि सभी सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को सुदृढ़ बनाकर प्रभावी ढंग से क्रियाशील रखा जाए। सभी स्वास्थ्य केन्द्रों पर मेडिकल उपकरणों के रख-रखाव, आवश्यक मानव संसाधन, पेयजल, शौचालय, विद्युत आपूर्ति व्यवस्था को सुचारू बनाया जाए। स्वास्थ्य केन्द्रों की साफ-सफाई तथा रंगाई-पुताई कराई जाए। उन्होंने निर्माणाधीन पी0एच0सी0 एवं सी0एच0सी0 को तत्काल पूर्ण कराते हुए क्रियाशील करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मीरजापुर के राजकीय मेडिकल काॅलेज के चिकित्सालय को क्रियाशील किया जाए। मेडिकल काॅलेज में आवश्यक कर्मियों की नियुक्ति आदि की कार्यवाही प्राथमिकता पर की जाए। प्रत्येक जनपद में ऑक्सीजन की अनवरत उपलब्धता बनाए रखने के लिए एक नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में व्यापक स्तर पर निःशुल्क कोविड टीकाकरण कराया जा रहा है। उन्होंने मण्डल के सभी जिलाधिकारियों को कोविड वैक्सीनेशन कार्य में और तेजी लाने के निर्देश देते हुए कहा कि ज़ीरो वेस्टेज के लक्ष्य के साथ टीकाकरण की कार्यवाही की जाए। टीकाकरण के दौरान कोविड प्रोटोकाॅल पर विशेष ध्यान दिया जाए। आगामी 01 जून से प्रदेश के सभी जनपदों में 18 से 44 आयुवर्ग के लोगों का वैक्सीनेशन प्रारम्भ होगा। इसके दृष्टिगत सभी तैयारियां समय से सुनिश्चित की जाएं। उन्होंने कहा कि स्वच्छता, सैनिटाइजेशन तथा फाॅगिंग के कार्य को पूरी सक्रियता से किया जाए। गांवों में साफ-सफाई, सैनिटाइजेशन एवं फाॅगिंग पर विशेष ध्यान दिया जाए।

मुख्यमंत्री ने सिटी विकास खण्ड की ग्राम पंचायत नुआव का भ्रमण किया। उन्होंने निगरानी समितियों के सदस्यों यथा ए0एन0एम0, आशा कार्यकत्र्री तथा पूर्व एवं वर्तमान ग्राम प्रधानों से वार्ता की। उन्होंने कोविड संक्रमण से बचाव के लिए लोगों को जागरूक करने तथा डोर-टू-डोर सर्वे के माध्यम से लक्षणयुक्त तथा संक्रमण की दृष्टि से संदिग्ध लोगों की स्क्रीनिंग के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि निगरानी समितियों के सजग प्रयास से हमारे गांव संक्रमण से सुरक्षित रहेंगे। सभी के सामूहिक प्रयासों से हमें गांवों को कोरोना मुक्त गांव बनाना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि निगरानी समितियों द्वारा लक्षणयुक्त तथा संक्रमण की दृष्टि से संदिग्ध लोगों को मेडिसिन किट उपलब्ध करायी जाए। इन लोगों का कोविड टेस्ट कराया जाए। ऐसे व्यक्तियों का विवरण आई0सी0सी0सी0 को दिया जाए। आई0सी0सी0सी0 के माध्यम से इस सूची की एक प्रति जनप्रतिनिधियों को उपलब्ध करायी जाए, ताकि वे भी मरीजों का हाल-चाल लेते हुए फीडबैक प्राप्त कर सकें। उन्होंने कहा कि टेस्ट के परिणाम के आधार पर लक्षणयुक्त तथा संक्रमण की दृष्टि से संदिग्ध लोगों को आवश्यकतानुसार होम आइसोलेशन/क्वारण्टीन सेण्टर अथवा अस्पताल में भेजा जाए।

मुख्यमंत्री ने नवनिर्वाचित प्रधानों को बधाई देते हुए कहा कि ग्राम पंचायत के व्यापक हितों को ध्यान में रखकर, जहां आवश्यकता पड़े, वहां पर वे पूर्व प्रधान का सहयोग लें। उन्होंने अधिकारियों को गांव की नियमित साफ-सफाई एवं सैनिटाइजेशन कराए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि लोगों को मास्क के अनिवार्य उपयोग तथा दो गज की दूरी का पालन करने के लिए निरन्तर जागरूक व प्रोत्साहित किया जाए।

मुख्यमंत्री जी ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र गुरसण्डी का निरीक्षण किया। उन्होंने स्वास्थ्य केन्द्र पर निःशुल्क कोविड वैक्सीन लगवाने के लिए आए लाभार्थियों से वार्ता की। उन्होंने वैक्सीनेशन कार्य से जुड़े स्टाफ, स्वास्थ्य केन्द्र के अन्य कर्मचारियों तथा भर्ती मरीजों से भी बातचीत की। उन्होंने औषधि वितरण कक्ष का निरीक्षण करते हुए, वहां दवाओं की उपलब्धता के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की।

मीडिया प्रतिनिधियों से वार्ता करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आबादी की दृष्टि से सबसे बड़ा प्रदेश होने के कारण उत्तर प्रदेश की चुनौतियां भी अधिक हैं। आज पूरे देश में उत्तर प्रदेश पूरी क्षमता के साथ कोविड नियंत्रण की दिशा में कार्य कर रहा है। कोरोना की दूसरी लहर में विगत 30 अप्रैल को एक्टिव केसों की सर्वाधिक संख्या 3,10,783 दर्ज हुई थी, जो संक्रमण पर नियंत्रण के लिए किए गए प्रभावी प्रयासों से घटकर 69,828 हो गई है।

प्रदेश में अब तक 04 करोड़ 73 लाख से अधिक कोविड टेस्ट किए जा चुके हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन में प्रदेश में 80 हजार वेण्टीलेटर एवं ऑक्सीजन युक्त बेड उपलब्ध हैं। राज्य में अब तक 01 करोड़ 65 लाख कोरोना वैक्सीन डोज लगायी गई हैं। 18 से 44 आयु वर्ग का टीकाकरण जो वर्तमान में 23 जनपदों में संचालित है, वह आगामी 01 जून से प्रदेश के सभी 75 जनपदों में संचालित किया जाएगा।

कोरोना की सम्भावित थर्ड वेव को ध्यान में रखते हुए सभी जनपदों में 12 वर्ष से कम आयु के बच्चों के अभिभावकों के टीकाकरण के लिए 'अभिभावक स्पेशल बूथ' बनाने का निर्णय लिया गया है, ताकि छोटे बच्चों को संक्रमित होने से बचाया जा सके। संक्रमण से उबरे लोगों के लिए पोस्ट कोविड वाॅर्ड का संचालन करने के निर्देश दिए गए हैं। मेडिकल ऑक्सीजन की दृष्टि से प्रत्येक जनपद को आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से ऑक्सीजन प्लाण्ट निर्मित किए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के माध्यम से प्रदेश में 15 करोड़ से अधिक जरूरतमन्दों को निःशुल्क राशन वितरित किया जा रहा है। राज्य सरकार द्वारा आगामी माह जून, जुलाई व अगस्त में अन्त्योदय एवं पात्र गृहस्थी कार्डधारकों सहित सभी जरूरतमन्दों को खाद्यान्न वितरित कराया जाएगा। दिन-प्रतिदिन की कमाई पर आश्रित गरीब एवं छोटे कामगारों को प्रदेश सरकार द्वारा 1,000 रुपए का भरण-पोषण भत्ता प्रदान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कम्युनिटी किचन के माध्यम से सभी जरूरतमन्दों और अस्पताल में भर्ती कोविड मरीजों के परिजनों को निःशुल्क भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है।

जनपद मीरजापुर भ्रमण के अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने निर्माणाधीन विन्ध्य काॅरीडोर का निरीक्षण किया। उन्होंने माँ विन्ध्यवासिनी देवी के मन्दिर में विधिवत दर्शन-पूजन किया तथा प्रदेशवासियों के स्वस्थ रहने की मंगल कामना की।

Next Story
Share it