Top
Pradesh Jagran

अखिलेश यादव ने कहा-किसानों की हालत सबसे ज्यादा खराब, भाजपा के दंभ को चकनाचूर करेगी इनकी एकता

अखिलेश यादव ने कहा-किसानों की हालत सबसे ज्यादा खराब, भाजपा के दंभ को चकनाचूर करेगी इनकी एकता
X

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने किसान की खराब हालत के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को जिम्मेदार ठहराया है।

अखिलेश ने रविवार को यहां जारी बयान में कहा कि सरकार की किसान विरोधी नीतियों के कारण आज अन्नदाताओं की आर्थिक हालत खराब हुई है। एक साल पहले काले कृषि कानूनों से भाजपा ने जो काली बुनियाद रखी उससे पूरी कृषि अर्थव्यवस्था ही चौपट हो गई। इसके विरोध में किसानों का बड़ा आंदोलन जारी है। आज भी किसान का आक्रोश कम नहीं हुआ। किसानों की एकता भाजपा के दंभ को चकनाचूर कर देगी।

गेहूं की एमएसपी 1975 रुपए प्रति कुंतल केवल विज्ञापनों में मिली

अखिलेश यादव ने कहा कि दो गुनी आय का सपना किसानों को वोट हथियाने वाली भाजपा सरकार में किसानों की उनकी फसल का लाभकारी मूल्य नहीं मिला। किसानों को बहकाने के लिए एमएसपी का राग तो भाजपा सरकार ने खूब गाया लेकिन हकीकत में किसानों की फसल की खरीदारी कहीं एमएसपी पर नहीं हुई। गेहूं की एमएसपी 1975 रुपए प्रति कुंतल केवल विज्ञापनों में मिलती रही। हकीकत में तो औने-पौने दामों पर बिचौलियों के हाथ किसान को गेहूं बेचना पड़ा। इसके पूर्व धान की फसल में भी किसान की लूट हुई।

चीनी मिलों पर किसानों का 20 हजार करोड़ रुपए बकाया


अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि गन्ना किसान तो प्रदेश में बुरी तरह मार खाया हुआ है। पेराई सीजन में भी उसके गन्ने की खरीद नहीं हुई। चीनी मिलों पर किसानों का 20 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का आज भी बकाया है। बकाये पर ब्याज का प्रावधान भी है पर जब मूलधन ही नहीं मिल रहा है तो ब्याज कौन देगा? किसान की कहीं सुनवाई नहीं हैै। कहने को किसान समृद्धि योजना भी चालू है लेकिन यह किसान को धोखा देने की नयी भाजपाई साजिश है। खाद की बोरियों की तौल में कमी करके और उसके दाम बढ़ाकर किसान के साथ खेल किया जा रहा है। डीजल के दाम बढ़ाने से किसान तो प्रभावित होता ही है, परिवहन महंगा होने से खाद्य वस्तुएं भी महंगी होने लगती है।

जनता से नहीं छुपेगा भाजपा का षडयंत्र

अखिलेश यादव ने कहा कि एक तीर से अन्नदाता और अन्य उपभोक्ता दोनों को शिकार बनाने का यह भाजपाई षड्यंत्र अब जनता से छुपेगा नहीं। सच तो यह है कि केवल विज्ञापनों तक सीमित रह गये हैं भाजपा सरकार के थोथे दावे। किसान के उपयोग की सभी चीजें महंगी करने के बाद और उसको दिए गए आश्वासनों की पूर्ति न होने से भाजपा के विकास माडल की पोल खुल गई है। भाजपा की इन चालबाजियों से ऊबे किसान और त्रस्त जनता अब उसको करारा जवाब देने का संकल्प कर चुकी है।

Next Story
Share it