Breaking News
Donate Now

खेतों में बजाए जाएंगे ढोल, नगाड़े और डीजे, भागेगा टिड्डी दल

गाजियाबाद। जिले के किसी भी खेत के पास यदि ढोल, नगाड़े या डीजे बजते हुए दिखायी दें तो हैरान होने की जरूरत नहीं है। दरअसल पाकिस्तान की ओर से राजस्थान और पंजाब के रास्ते होते हुए गाजियाबाद के देहाती खेतिहर इलाकों में प्रवेश करने वाले टिड्डी दलों को भगाने के लिए गाजियाबाद के जिला प्रशासन ने कृषि एवं उद्यान विभाग को इस आशय की एडवाइजरी मंगलवार को जारी की है। कृषि विशेषज्ञों का मानना है कि शोर के कारण टिडि्डयों का दल आसानी से भाग जाता है और फसल का नुकसान होने से बच जाती है।

इस संबंध में उत्तर प्रदेश शासन ने गाजियाबाद सहित राज्य के सभी जिलों के जिलाधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं। जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने बताया कि हमने जिले के सभी ग्राम पंचायतवार स्टेशनों पर कृषि विभाग के तकनीकी कर्मचारियों की ड्यूटी लगा दी है। उन्होंने बताया कि टिड्डी का दल जब किसी भी खेतिहर इलाके में प्रवेश करता है तो वहां तुरंत ढोल, नगाड़ा, थाल एवं डीजे आदि बजाकर खेतों में खड़ी फसलों पर उन्हें ना बैठने दिया जाए। इस प्रकार के कानफोडू शोर से टिडि्डयों का दल भाग जाता है।

पांडेय ने बताया कि टिडिडयों को नष्ट करने के लिए मैलाथिाइन कीट नाशक का छिड़काव भी किया जा सकता है। लेकिन यह रसायन आसानी से बाजार में उपलब्ध नहीं हो पता है। इसलिए ध्वनि यंत्रों का सहारा इस मुहिम में ज्यादार कारगर सिद्ध हो सकता है।

error: Content is protected !!