Breaking News
Donate Now

नवरात्रि में करें ये उपाय, आपके सभी मनोरथ होंगे पूर्ण- नवरात्र में बनेगें अनेक शुभ योग

17 अक्टूबर 2020 से शुरू होने वाले शरद नवरात्र में सर्वार्थ सिद्धि, रवि योग का संयोग बन रहा है। श्रीमद् देवी भागवत व देवी ग्रंथों के अनुसार इस तरह के संयोग का बहुत ही महत्व है नवरात्र के समय ऐसे योगो का दोगुना फल मिलता हैं । इसलिए यह नवरात्र देवी साधकों के लिए खास होते हैं ।

दुर्गा सप्तशती

दुर्गा सप्तशती का पाठ सुख शांति, समृद्धि, धन प्राप्ति, संतान प्राप्ति ,व्यापार वृद्धि और हर मनोकामना में सफलता प्राप्ति है, और नवरात्रि के 9 दिनों के दौरान दुर्गा सप्तशती के पाठ को करना, सबसे अधिक शुभ कार्य माना जाता है।

संतान प्राप्ति के लिए – पहले नवरात्रि से जोडे़ सहित माँ भगवती को हर रोज दूध से। स्नान कराऐ और मिठाई मे पेडा व फल मे अनार का भोग लगाऐ और साथ मे भैरव बाबा ओर हनुमान जी की पुजा करे ओर भोग लगाऐ 1 पानी वाला नारियल अपनी मनोकामना बोल कर अपने घर के मंदिर में रखे हर रोज पुरे नवरात्रि पुजा करे बाद में अपनी मनोकामना बोल कर माँ भगवती के मंदिर जा कर लाल चूनरी और श्रृंगार सहित माता के चरणों में अर्पित करे या फिर संतान प्रापती के मंत्र से माँ दुर्गा सप्तशती का संपुटित पाठ करवाऐं आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होगी लेकिन मनोकामना पहले नवरात्रि से आखिर तक एक ही रखनी है अलग अलग नहीं।

व्यापार वृद्धि के लिए उपाय – 7 पीली कोडी 7हलदी की गाठ 7 सुपारी और कुछ पैसे पीले कपड़े में बांध कर नवरात्रि मे माँ भगवती से अपनी मनोकामना बोलकर व्यापार स्थान के मंदिर में रखे हर रोज नवरात्रि मे पुजा करे ऊसके बाद नवमी वाले दिन रवि योग व सर्वार्थ सिद्धि योग है उस अपने तिजोरी में रखे अवश्य व्यापार में दिन दुगनी रात चोगनी तरकि होगी ।

नौकरी से संबंधी उपाय –

यदि नौकरी या परमोशन संबंधित कार्य में कोई अड़चनें आ रही है तो नवरात्रि मे पहले माता को भोग लगाऐ फिर 9 साल से छोटी कन्या को पुरे नवरात्रि में मिठाई, चॉकलेट बांटे और काले कुते दूध पिलाऐ और भरो बाबा और हनूमान जी का भी मंदिर जाकर आशीर्वाद ले प्रसाद बाँटे आपकी नौकरी समंबधित परेशानी अवश्य दुर होगी ।

विवाद में आ रही अड़चनें और बाधाएं कैसे करे दूर नवरात्र में करें उपाय लड़की के विवाह में आ रही बाधाएँ के लिए पुरे नवरात्र लड़की को माँ गौरी का पूजन करना चाहिए और माँ को लाल चुनरी सहित 16 श्रृंगार अर्पण करे या फिर पति प्राप्ति के लिये मन्त्र-

कात्यायनी महामाये महायोगिन्यधीश्वरि !
नंदगोपसुतम् देवि पतिम् मे कुरुते नम:।

मत्रं से दुर्गा सप्तशती का संपुटित पाठ किसी योग्य ब्राहमण से करवाऐ माता से प्रार्थना करें हे माँ मै आपकी शरण में आ गयी मुझे शीघ्र अति शीघ्र सौभाग्य की प्राप्ति हो और मेरी मनोकामना शीघ्र पुरी हो
ईसी प्रकार लड़के के विवाह में आ रही बाधाएँ दूर करने के उपाय लड़के ने नवरात्र के समय माँ दुर्गा का सोढस उपचार पूजन करे और पुजा में मिठाई पेडा और फल में माता को अनार अर्पण करे या फिर पत्नी प्राप्ति के मत्रं -:

पत्नीं मनोरमां देहि मनोवृत्तानु सारिणीम्।
तारिणींदुर्गसं सारसागरस्य कुलोद्भवाम्॥
से माँ दुर्गा सप्तशती का संपुटित पाठ किसी योग्य ब्राह्मण से करवाऐ आपकी मनोकामना शीघ्र पूरी होगी ।

राजनीति में सफलता के लिए बना हुआ नवरात्रि में राज योग -कया करे उपाय राजनीति करने वाले के लिए ईस बार नवरात्रि में काफी अच्छा राजयोग प्रंचड़ बना हुआ है राजनीति करने माँ भगवती के तीनों रूप व माँ पितामबरा (बगला मुखी) पुजा पुरे नवरात्रि को रात के समय करनी चाहिए विजय प्राप्ति के लिए माँ भगवती विजय प्राप्ति मत्रं से दुर्गा सप्तशती से संपुटित सचचंडी पाठ व माँ पितामबरा का सवा लक्ष जप रात के समय करवाये और माँ भगवती को मिठाई, फल,पंचमेवा भोग लगाऐ पुजा के समय विजय प्राप्ति यत्रं व माँ बगला मुखी यत्रं अवश्य रखे और हर रोज नवरात्रि में 9 कन्या को जो 9 साल से छोटी हो फल मिठाई व दक्षिणा देवे और कन्याओ के पावं छु कर आशीर्वाद लेवे राजनीति में सफलता अवशय प्राप्त होगी ।

पढाई में कमजोर बच्चो के लिए नवरात्रि में उपाय बच्चो को नवरात्रि माँ सरस्वती की पुजा आराधन करनी चाहिए माँ सरस्वती स्रोत्र का हर रोज सुब पाठ करे ओर माँ सरस्वती से प्रार्थना करें मेरे कंठ में वास करो और मुझे सदबुधि की प्राप्ति हो मै आपकी शरण में आ गया और माँ सरस्वती को हररोज पुरे नवरात्रि में दुध, पेडा, सहद, पचंमेवा का भोग लगाऐ ओर नीले पुष्प या पुष्प माला माँ सरस्वती को अर्पण करे पहले प्रसाद छोटी कन्या को बांटे और ऊन के पांव छु कर आशीर्वाद ले फिर खुद भी प्रसाद ग्रहण करे अवश्य आपको सफलता मिलेगी ।

धन प्राप्ति में रुकावट को दुर करने के लिए नवरात्रि में कया करे ऊपाय – सबसे पहले माँ लक्ष्मी यंत्र ,श्री यंत्र ओर कुबेर यंत्र माँ लक्ष्मी या दुर्गा की मूर्ति को हर रोज पुरे नवरात्रि माँ लक्ष्मी का दुध, अनार का रस, या गनने के रस से श्री शुकत के या लक्ष्मी शुकत से 11,21,31,51,108, पाठ से अभिषेक करे और माँ लक्ष्मी को पेडा, अनार ओर पंचमेवा का भोग लगाऐ पहले प्रसाद छोटी कन्या को बांटे फिर खुद ग्रहण करे और हर रोज रात्रि मे कमल के फुल, कमल गटटे ,हवन सामग्री लाल चंनदन ,और खीर से श्रीसुकत के 11 पाठ से हर रोज पुरे नवरात्रि हवन करे या किसी योग्य ब्राह्मण से करवाऐ इस बार नवरात्रि में प्रचंड लक्ष्मी योग बना हुआ है यह कार्य सरदा और विशवास से करे सफलता अवशय प्राप्त होगी।

किस दिन बनेगा कौन-सा शुभ योग

17- प्रथमा तिथि सर्वार्थ सिद्धि योग

18 – द्वितीया के साथ रवि योग (शुभ)

19 तृतीया के साथ बुदअद्वितीय योग (कार्य सिद्धि)

20 -चतुर्थी के साथ रवि योग

21- पंचमी के साथ पर्येषण प्राप्ति रवि योग

22- छठ के

23 -सप्तमी के

24-अष्टमी पर कुलदेवी पूजन सर्वार्थ सिद्धि योग

25- नवमी के साथ सर्वार्थ सिद्धि योग ।

error: Content is protected !!