Top
Pradesh Jagran

मध्य प्रदेश और गुजरात की 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द

मध्य प्रदेश और गुजरात की 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द
X

गांधीनगर/अहमदाबाद/भोपाल। मध्य प्रदेश और गुजरात की 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द कर दी गई हैं। गुजरात मंत्रिपरिषद की बैठक में बुधवार को राज्य में 12वीं बोर्ड परीक्षा को रद्द करने का फैसला लिया गया है। राज्य सरकार ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सलाह पर कोरोना के प्रकोप को देखते हुए छात्राें के हित में यह निर्णय लिया है।

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कैबिनेट बैठक में छात्रों के हित को देखते हुए राज्य की 12वीं बोर्ड परीक्षा को भी स्थगित करने का निर्णय किया है। दरअसल, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सलाह पर बच्चों के हित में सीबीएससी परीक्षा रद्द करने के फैसले के बाद गुजरात शिक्षा विभाग और शिक्षा बोर्ड कल रात से ही सक्रिय था। कल देर रात तक मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री और शिक्षा विभाग के अधिकारियों के बीच सिलसिलेवार बैठकें होती रहीं और गुजरात माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की कक्षा12वीं की परीक्षा पर पुनर्विचार करने के मामले पर लगातार चर्चा होती रही। बुधवार को मंत्रिपरिषद की बैठक में आखिरकार 12वीं की बोर्ड परीक्षा भी रद्द करने का फैसला लिया गया।

गौरतलब है कि मंगलवार शाम 5 बजे गुजरात बोर्ड ने जल्दबाजी में कक्षा 12 विज्ञान और सामान्य स्ट्रीम की परीक्षाओं के कार्यक्रम की घोषणा कर दी थी। इस समय सारिणी की घोषणा के दो घंटे बाद केंद्र सरकार ने सीबीएसई की परीक्षा रद्द कर दी। गुजरात में गुजरात माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षा में कक्षा 12वीं विज्ञान वर्ग के1.40 लाख और सामान्य वर्ग के 5.52 लाख छात्रओं परीक्षा देना था। राज्य में 10वीं की बोर्ड परीक्षाएं पहले ही रद्द की जा चुकी थी।


इसी क्रम में कोरोना संक्रमण की वजह से मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने भी 12वीं की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस बात की जानकारी दी है। अब 12वीं के छात्रों को किस आधार पर पास किया जाएगा, इसके लिए मंत्रियों की एक कमेटी गठित कर दी गई है। मंत्री समूह की कमेटी आंतरिक मूल्यांकन या फिर अन्य आधार पर रिजल्ट तैयार करने का फैसला लेगी। सीएम शिवराज ने कहा है कि बच्चों की जिंदगी हमारे लिये अनमोल है, करियर की चिंता बाद में कर लेंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 12वीं बोर्ड की परीक्षा रद्द किये जाने की जानकारी देते हुए कहा कि 'मध्यप्रदेश में 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएँ इस वर्ष अयोजित नहीं की जाएंगी। बच्चों की जिंदगी हमारे लिए अनमोल है। करियर की चिंता हमलोग बाद में कर लेंगे। बच्चों पर जिस समय कोविड19 का बोझ है, उस समय हम उन पर परीक्षाओं का मानसिक बोझ नहीं डाल सकते!

उन्होंने कहा कि हमने मंत्रियों का एक समूह बनाया है, जो विशेषज्ञों से चर्चा करने के बाद आंतरिक मूल्यांकन या अन्य आधारों पर विचार करके रिज़ल्ट्स का तरीका तय करेगा। 10वीं कक्षा के बच्चों का परिणाम आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर घोषित किया जाएगा। बता दे कि मप्र 10वीं बोर्ड की परीक्षाएं पहले ही रद्द कर दी गई है। वहीं 12वीं की परीक्षाएं एक मई से आयोजित की जानी थीं, लेकिन बढ़ते कोरोना संक्रमण की वजह से आगामी आदेश तक स्थगित कर दिया गया था। इसके बाद 12वीं की परीक्षाएं जुलाई में आयोजित होने के कयास लगाए जा रहे थे, लेकिन मंगलवार को सीबीएसई द्वारा 12वीं की परीक्षा को रद्द कर दिया गया। जिसके बाद अब मध्य प्रदेश सरकार द्वारा 12वीं की परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया। इसके अलावा हरियाणा प्रदेश, गुजरात प्रदेश द्वारा 12वीं की परीक्षाएं रद्द की जा चुकी हैं।

Next Story
Share it