Breaking News
Donate Now

भारत बंद: कृषि बिल के खिलाफ देशभर के किसान सड़क पर

किसान बिल के विरोध में किसान मोर्चे पर है. पंजाब, हरियाणा, उत्तरप्रदेश समेत देश के अन्य राज्यों के किसानों ने आज भारत बंद का आह्वान किया है. किसानों के इस प्रदर्शन से यातायात प्रभावित होने की संभावना है.

तमाम किसान संगठन अलग-अलग राज्यों में राज्यमार्ग और रेल सुविधा को बाधित कर सकते है. पंजाब के अमृतसर में तो किसान मजदूर संघर्ष कमिटी बीते 24 सितम्बर से ‘रेल रोको’ आंदोलन चला रही है जो कि 26 सितम्बर तक जारी रहेगा. फिलहाल सरकार और किसान आमने-सामने है.

दिल्ली में भी प्रदर्शन 

दिल्ली के जंतर-मंतर पर दोपहर 12 बजे से कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता और वरिष्ठ नेता किसानों के साथ इस बिल का विरोध करेंगे. देश के विभिन्न क्षेत्रों से विरोध का दौर जारी है. किसानों को आम जनता के साथ-साथ विपक्ष के नेताओं का भी साथ मिल रहा है.

किसान विरोध

नहीं दर्ज होगा धारा 144 के उलंघन पर मुकदमा 

वहीँ पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने घोषणा कर दिया है कि विरोध कर रहे किसानों पर धारा 144 का उलंघन करने पर कोई मुकदमा नहीं दर्ज किया जायेगा. उन्होंने किसानों से कोरोना प्रोटोकाल का पालन करने की विनती की है.

जारी रहेगा विरोध 

किसान मजदूर संघर्ष कमिटी के महासचिव ने कहा कि किसानों के विरोध पर सरकार का रवैया असंतोष से भरा हुआ है. इससे ये साफ़ है की ये आन्दोलन लंबा चलने वाला है.

देश के तमाम किसान संगठनों ने लोगों से उनके (भारत बंद) आंदोलन का हिस्सा बनने की अपील की है. इसके साथ ही दूकान और तमाम प्रतिष्ठानों को बंद करने के लिए भी कहा है.

किसानों के इस विरोध का कितना असर पड़ेगा ये तो आने वाले वक़्त पर पता चलेगा, लेकिन ये साफ़ हो गया है, कि सरकार और किसान के बीच ठन गयी है. ऐसे में अब सरकार का कदम क्या होगा ये देखना काफी दिलचस्प होगा.

error: Content is protected !!