Monday , August 2 2021
Breaking News

स्टीम बेलोनो पाईप फटा, एक मजदूर की मौत

देव श्रीवास्तव
लखीमपुर-खीरी।

स्थानीय चीनी मिल में देर रात्रि मिल की डिस्टलरी की स्टीम बेलोनो पाईप की मरम्मत करते समय हुए हादसे में दो कर्मचारी गंभीर रुप से झुलस गए। जिन्हें उपचार के लिए जिला अस्पताल से लखनऊ रेफर कर दिया गया। जहां से दोनों घायलों को लखनऊ रेफर किया गया। जहां एक कर्मचारी की मौत हो गई। जबकि दूसरे का उपचार जारी है। जिसकी हालत गंभीर बताई जा रही है। देर रात्रि करीब 12 बजे मिल के डिस्टलरी प्लांट में पाइप की लीकेज को दोनों कर्मचारी ठीक कर रहे थे। उसी समय पाईप में प्लेट लगाते समय अचानक पाइप लाईन फट गई। जिससे भरभराकर गर्म पानी की स्टीम का फौव्वारा छूट पड़ा।

04

स्टीम इतनी जबरदस्त थी कि जिस छज्जे पर खड़े होकर मजदूर काम कर रहे थे वह भी टूट गया। जिससे दोनों मजदूर छज्जे सहित नीचे गिर गए। घटना में वहां काम कर रहे कर्मचारी सोहन लाल विश्वकर्मा (47) पुत्र रामयादी निवासी पुरानी मिल कालोनी गोला, बैजनाथ पुत्र रामानंद द्विवेद्वी (46) निवासी पुरानी मिल कालोनी गर्म पानी की चपेट में आकर बुरी तरह से जख्मी हो गए। जिन्हें आनन-फानन में मिल प्रशासन ने उपचार के लिए जिला अस्पताल पहुंचाया। जहां से दोनों को प्राथमिक उपचार के बाद लखनऊ रेफर कर दिया गया। उपचार के दौरान सोहन लाल की लखनऊ में मौत हो गई जबकि बैजनाथ का उपचार जारी है। मिल के पीआरओ सतीश श्रीवास्तव ने बताया कि रात लगभग 12 बजे के आस-पास की घटना है। डिस्टलरी के स्टीम बेलेनों पाइप को ठीक कर रहे थे। उस दौरान दोनों कर्मचारी ही मौके पर थे। कर्मचारी मिल के स्थाई कर्मी है। मृतक कर्मचारी को नियमानुसार लाभ दिए जाएंग

03

मिलावटी सरसों के तेल का हो रहा अवैध कारोबार

क्षेत्र में नकली सरसों तेल का कारोबार बेरोक-टोक चल रहा है जिससे आम जनता अपने आप को ठगा सा महसूस कर रही है। मिलावटी विभाग सब कुछ जानबूझ कर आंखे बंद किए रहता है। यहां पर 60 रूपये प्रति किलो से लेकर 80 रूपये प्रति किलो तक सरसों का तेल मिल जाता है। प्रतिदिन कम से कम 10 कुंटल से लेकर 15 कुंटल तक का नकली सरसों का तेल बेचा जाता है। खतरनाक कैमिकल से ये सरसों का तेल बना कर बेचा जाता है। आम जनता की जिंदगी के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है वही ंनकली और मिलावटी खाने-पीने वाली चीजें इस विभाग की शह पर बेंची जा रही है। जब कभी जनपद से टीम सैम्पल लेने के लिए आती हैं तो इन्हीं के गुर्गे दुकानदारो को जानकारी देकर अपनी जिम्मेदारी अदा कर देते हैं। मिलावटी तेल या अन्य चीजों से जनता की सेहत के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है तथा बीमारियों को खुलेआम दावत दी जा रही है। अब देखने वाली बात ये होगी कि इस नकली तेल के व्यापारियों पर प्रशासन क्या कार्यवाही करता है या विभाग की मिली भगत से यह खेल पहले जैसा ही चलता रहेगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा ।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *