Top
Pradesh Jagran

मौसम का यू टर्नः बद्रीनाथ धाम और गंगोत्री धाम में बर्फबारी शुरू

मौसम का यू टर्नः बद्रीनाथ धाम और गंगोत्री धाम में बर्फबारी शुरू
X

मौसम ने एकदम से पलटी मारते हुए अपना रुख बदल दिया है. उत्तराखंड के ऊंचाई वाले हिस्सों में पारा एकदम से बढ़ना शुरू हो गया था, लेकिन मौसम में अचानक हुए बदलाव से बद्रीनाथ और गंगोत्री में बर्फबारी हो रही है. इसकी वजह से पारा लुढ़कना शुरू हो गया है.

इसके पहले मौसम विभाग ने अगले चार-पांच दिनों में पहाड़ के तापमान में आठ से दस डिग्री उछाल आने की चेतावनी जारी की थी. मौसम विभाग ने वन विभाग को चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि एकाएक तापमान बढ़ने से जंगलों में आग लगने की घटनाएं बढ़ सकती हैं जिसके लिए पहले से ही तैयारी करने की जरूरत है.

मगर दूसरी तरफ मौसम ने पलटी मार दी है. बद्रीनाथ में बिन मौसम बर्फबारी शुरू हो गई है तो वहीं गंगोत्री धाम में भी हिमपात ने अपनी छटा बिखेरनी शुरू कर दी है.

मगर इसका ये मतलब कतई नहीं है कि भयंकर गर्मी को लेकर चेतावनी को खत्म कर दिया गया है. गर्मी और पारे के बढ़ने को लेकर चेतावनी अब भी वैसे ही जारी है जैसा कि पहले से मौसम विभाग ने बताया हुआ है.

मौसम विज्ञान केंद्र ने प्रदेश भर के लिए चेतावनी जारी की है. इसमें कहा गया है कि उत्तराखंड के पर्वतीय जिलों में अगले चार से पांच दिनों में तापमान औसत से आठ से दस डिग्री तक बढ़ जाएगा. पर्वतीय इलाकों के लिए यह असामान्य तापमान है. अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि इस समय मुक्तेश्वर में तापमान 25.4 डिग्री है यानी वहां पर 35 डिग्री तक तापमान होगा. मुक्तेश्वर में इतना तापमान पिछले बीस सालों में कभी नहीं गया. मैदानी जिलों में तापमान 40 डिग्री तक पहुंच सकता है.

बढ़ी आग लगने की आशंका

इस बार सर्दियों में कम बारिश होने के कारण वातावरण गर्म हो रहा है और नमी खत्म हो रही है. इसलिए तापमान में यह उछाल आने वाला है. मौसम केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया, पर्वतीय इलाकों में वायु प्रदूषण मैदान के अपेक्षा कम होता है. लिहाजा, हवा शुष्क होने से धूप ज्यादा गर्मी पैदा करेगी. ये स्थित जंगलों में आग के लिए मुफीद होती है. लिहाजा, वन विभाग को अलर्ट भेजा गया है.

उत्तराखंड के जंगल में चीड़ की मात्रा बहुत ज्यादा होने की वजह से गर्मियों के मौसम में माना जाता है कि गर्मी बढ़ने से जंगल में आग लगने की आशंका बढ़ जाती है. जिस तरह से इस बार बारिश में गिरावट हुई है उसकी वजह से ये अंदाज लगाया जा रहा है कि इस बार जंगल बहुत तेजी के साथ धधकेंगे.

Next Story
Share it