Top
Pradesh Jagran

मुंबई आया एशिया का सबसे बड़ा क्रूज, 2000 पर्यटक होंगे सवार

मुंबई आया एशिया का सबसे बड़ा क्रूज, 2000 पर्यटक होंगे सवार
X

क्रूज के आवागमन को लेकर भारत के नियम बदलने के बाद पहली बार एशिया का सबसे बड़ा क्रूज शनिवार को मुंबई पहुंचा। एलईडी लाइटिंग से सुसज्जित, लग्जरी क्रूज (शिप) जेंटिंग ड्रीम रविवार को यहां से कोलंबो के लिए रवाना होगा। इसके आगे यह सिंगापुर जाएगा।

यही नहीं, यह भी पहली बार है कि 18 मंजिला कोई क्रूज मुंबई बंदरगाह पर आया है। यह क्रूज ड्रीम क्रूज बेड़े का पहला जहाज है। बड़ी बात यह है कि जेंटिंग ड्रीम मुंबई पोर्ट पर पूरी तरह खाली आया था। यहीं से सवार पर्यटक इसके पहले यात्री बने।

largest-ship-mumbai_30_10_2016

शनिवार को मुंबई पोर्ट पर क्रूज के उद्घाटन का आयोजन भी किया गया, जिसमें महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी शामिल हुए।

अक्टूबर से मई तक सीजन

मुंबई पोर्ट ट्रस्ट के अधिकारियों का दावा है कि इस जहाज से करीब 2000 पर्यटक कोलंबो और सिंगापुर की सैर पर निकलेंगे। बाद में यह सिंगापुर-हांगकांग के बीच कुछ दिन रहेगा। मुंबई पोर्ट ट्रस्ट के चेयरमैन संजय भाटिया के मुताबिक, भारत के लिए क्रूज का सीजन अक्टूबर से मई तक होता है।

देश की समुद्री सीमा पर भी चलेंगे क्रूज

ऑल इंडिया टूर्स ऑपरेटर्स एसोसिएशन के वेस्टर्न रीजन के को-ऑर्डिनेटर हिमांशु पाटिल ने नईदुनिया को बताया कि मुंबई पोर्ट ट्रस्ट द्वारा क्रूज की सवारी को लेकर बदले गए नियमों के मुताबिक, पहले ट्रस्ट में 6 महीने पहले यात्रा की बुकिंग करानी पड़ती थी।

अब यात्रा से सिर्फ एक दिन पहले ही बुकिंग की जा सकती है। यही नहीं पोर्ट पर अब कार्गो शिप के बजाय पैसेंजर शिप को वरीयता दी जाएगी। इसके जरिए कोच्चि, गोवा में पर्यटन को बढ़ावा देने की योजना है।

अगले कुछ दिन में वोयेज क्रूज के आने का सिलसिला शुरू हो जाएगा। इस तरह के एक महीने में 6 क्रूज भारत आएंगे और ये भारतीय समुद्री क्षेत्र में ही पर्यटकों को सैर करवाएंगे। मसलन ये मुंबई से मंगलुरुर और इसके बाद मालदीव जाकर मुंबई लौट आएंगे।

क्रूज की ये हैं खासियतें

  • 3400 यात्रियों की क्षमता
  • 18 मंजिलें
  • 1700 बड़े निजी कमरे
  • 142 सुइट
  • 35 रेस्तरां बार
  • 335 मीटर लंबा, 40 मीटर चौड़ा

देश में बढ़ रहा क्रूज का क्रेजहाल ही में मुंबई पोर्ट पर क्रूज को लेकर व्यवस्थाएं बेहतर की गई हैं। इस साल करीब 59 क्रूज के भारत आने की पुष्टि हुई है। इनसे 35,000 से 60,000 यात्रियोंका आवागमन होगा। पिछले वर्ष 37 क्रूज ही भारत आए थे। मुंबई पोर्ट के अध्यक्ष संजय भाटिया के मुताबिक, 130 करोड़ रुपए की लागत से क्रूज टर्मिनल पर सेवाएं बढ़ाई गई हैं।

भाटिया के मुताबिक, अजामारा जर्नी, वोयेज, कोस्टा लुमिनोसा, ऐडाबेला, सिल्वर क्लाउड, नार्वेयन स्टार आदि क्रूज हैं, जो मुंबई पहुंचेंगे। आमतौर पर अब तक क्रूज से आने वाले विदेशी पर्यटक कुछ ही घंटे समय बिताते थे और आगे की यात्रा पर निकल जाते थे।

मुंबई पोर्ट ट्रस्ट ने अब क्रूज टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए मुंबई इंटरनेशनल क्रूज टर्मिनल पर क्रूज बर्थिंग की 24 घंटे की सीमा हटा दी है। महाराष्ट्र टूर ऑर्गेनाइजर्स एसोसिएशन के कोषाध्यक्ष अतुल मोहिले के मुताबिक, देश में क्रूज पर्यटन का क्रैज बढ़ रहा है।

इससे सफर में होटल आदि का खर्च बच जाता है। वहीं पहले भारतीयों को क्रूज की सवारी करने के लिए विदेश जाना होता था, लेकिन अब यहीं से यह संभव होगा। इस तरह काफी खर्च बच जाएगा। यह प्रति पर्यटक 30 हजार से 45 हजार रुपए पड़ता है, जो दो रात का होता है।

मुंबई से रवाना हुए क्रूज में 25-30 प्रतिशतयात्री महाराष्ट्र के हैं, बाकी देश के दूसरे हिस्से के। इनमें दिल्ली, उप्र के साथ मप्र भी शामिल है। मप्र में इंदौर, ग्वालियर, भोपाल के लोग भी क्रूज की सवारी के शौकीन हैं।

Next Story
Share it