Top
Pradesh Jagran

कांग्रेस ने की चुनाव आयोग से शिकायत, मोदी और भाजपा के खिलाफ हो सख्त कार्रवाई

कांग्रेस ने की चुनाव आयोग से शिकायत, मोदी और भाजपा के खिलाफ हो सख्त कार्रवाई
X

कांग्रेस ने आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर बुधवार को निर्वाचन आयोग से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की शिकायत करते हुए कड़ी कार्रवाई की मांग की। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि एक कार्यक्रम में मोदी ने भगवान राम तथा हनुमान के नाम का उद्घोष किया। कांग्रेस ने यह भी मांग की है कि भाजपा का चुनाव चिन्ह रद्द कर उसे वापस लिया जाए।k-c-mittla

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव के.सी.मित्तल ने निर्वाचन आयोग को शिकायत सौंपी। मित्तल पार्टी के कानून व मानवाधिकार विभाग के प्रमुख हैं।

शिकायत के मुताबिक, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 12 जनवरी को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कन्याकुमारी के विवेकानंद केंद्र में ‘रामायण दर्शनम एक्जिबिशन’ के उद्धाटन समारोह को संबोधित किया।”

निर्वाचन आयुक्त नसीम जैदी को सौंपी गई शिकायत के अनुसार, “प्रधानमंत्री ने इस अवसर को चुनाव अभियान के हिस्से के रूप में इस्तेमाल करने के माकूल पाया और अपने भाषण में भगवान श्रीराम, अयोध्या, राम राज्य, हनुमानजी तथा भरत जैसे शब्दों का बार-बार इस्तेमाल किया।”

शिकायत में यह बात भी कही गई है कि प्रधानमंत्री ने जानबूझकर भगवान श्रीराम, हनुमानजी व रामायण के अन्य पात्रों के नाम लिए और अपनी सरकार की नीतियों की तुलना भगवान श्रीराम की नीतियों से की।

कांग्रेस ने कहा, “उनका पूरा भाषण पांच राज्यों खासकर उत्तर प्रदेश व अन्य राज्यों में विधानसभा चुनाव को देखते हुए धार्मिक भावनाएं भड़काने पर केंद्रित था।”

शिकायत में वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान निर्वाचन आयोग का ध्यान मोदी की तस्वीर पर भी केंद्रित किया गया है, जिसमें उनकी पृष्ठभूमि में राष्ट्रध्वज के साथ अशोक स्तंभ है और तस्वीर के ऊपर नारा लिखा है, ‘राम तभी भगवान राम बने जब उन्होंने गरीबों को सशक्त किया।’

कांग्रेस ने दावा किया कि इसका इस्तेमाल चुनाव अभियान को ध्यान में रखते हुए किया गया।

शिकायत के मुताबिक, “भाजपा तथा उसके नेता बार-बार आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं, इसलिए अनुरोध है कि आयोग तत्काल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करे और उचित आदेश व निर्देश जारी करे।”

कांग्रेस ने शिकायत में कहा, “यह एक उचित मामला है, जिसमें भाजपा का चुनाव चिन्ह रद्द कर उसे वापस लिया जा सकता है।”

Next Story
Share it