Home / अध्यात्म / नरक का भोगी नहीं बनना चाहते तो, भूल कर भी ना करें ये महापाप

नरक का भोगी नहीं बनना चाहते तो, भूल कर भी ना करें ये महापाप

Loading...

Loading...

जिसका इस धरती पर जन्म हुआ है. उसे एक दिन दुनिया को अलविदा भी कहना है. चाहे वो इन्सान हो या जानवर. कई दुःख भोगने के बाद कई यातनाये झेलने के बाद हम सभी को इन्सान रूप की प्राप्ति होती है. इसे कैसे संभाल कर रखे . ऐसा कोई काम अपने जीवन में न करे जिससे  दुनिया को अलविदा कहने के बाद भी हमे स्वर्ग की जगह नर्क झेलना पड़े  बताते चले.  

शास्त्रों में ये बात कही गयी है. और भविष्य पुराण में माना गया है कि हर इंसान को उसके शरीर, मन व बातों से किए गए पापों को भोगना पड़ता है। उसमें भी कुछ काम ऐसे हैं जिन्हें बड़ा पाप माना गया है। आइए जानते हैं पांच ऐसे ही महापापों के बारे में जिन्हें करने वालों को नर्क में सबसे ज्यादा यातनाएं झेलनी पड़ती है।

दुनिया में पाप और पुण्य का दौर चलता रहता है. लोग पाप को कम करने के लिए पुण्य का काम भी किया करते हैं. पुराने जमाने में ईसाई धर्म में 7 पापों को घोर पाप की सूची में रखा था ताकि मनुष्य ये पाप करे तो हमेशा के लिए दोषी ठहराया जा सके. इन सात महापापों को अंग्रेजी में सेवेन डेडली सिंस (Seven deadly sins) या कैपिटल वाइसेज (Capital vices) या कारडिनल सिंस (Cardinal sins) भी कहा जाता है.

लस्ट (Lust)

लस्ट यानी लालसा, कामुकता, कामवासना. ये मनुष्य को दंडनीय अपराध की ओर ले जाते हैं और इनसे समाज में कई प्रकार की बुराईयां फैलती हैं. इस पाप में गैर महिलाओं से संबंध स्थापित करना शामिल है.

ग्लूटनी (Gluttony)

ग्लूटनी को भी सात महापापों में रखा गया है. दुनिया भर में तेजी से फैलने वाले मोटापे की हर जमाने में निंदा हुई है और इसका मजाक उड़ाया गया है. ठूंस कर खाने को महापाप में इसलिए रखा गया है कि एक तो इसमें अधिक खाने की लालसा है और दूसरा यह जरूरतमंदों के खाने में हस्तक्षेप करने के समान है.

ग्रीड (Greed)

लालच, लोभ भी लस्ट और ग्लूटनी की तरह है और इसमें अत्यधिक प्रलोभन होता है. चर्च ने इसे सात महापाप की सूची में अलग से इसलिए रखा है क्योंकि इसमें धन-दौलत का लालच शामिल है.

स्लौथ (Sloth)

स्लौथ का मतलब आलस्य, सुस्ती और काहिली से है. पहले स्लौथ का अर्थ होता था उदास रहना, खुशी न मनाना. इसे महापाप में इसलिए रखा गया था कि इसका मतलब था खुदा की दी हुई चीज से परहेज करना. इस अर्थ का पर्याय आज melancholy, apathy, depression, और joylessness होगा. बाद में इसे इसलिए पाप में शामिल रखा गया क्योंकि इसकी वजह से आदमी अपनी योग्यता और क्षमता का प्रयोग नहीं करता है.

रैथ (Wrath)

रैथ का मतलब गुस्से, क्रोध और आक्रोश से है. इसे नफरत और गुस्से का मिला जुला रूप कहा जा सकता है. जिसमें आकर कोई कुछ भी कर जाता है. ये सात महापाप में अकेला ऐसा पाप है जिसमें आपका अपना स्वार्थ शामिल नहीं होता.

एनवी (Envy)

ईर्ष्या करना भी पाप माना गया है. यह ग्रीड से इस अर्थ में अलग है कि ग्रीड में धन-दौलत ही शामिल है जबकि यह उसका व्यापक रूप है. यह महापाप इसलिए है कि क्योंकि लोग कोई गुण किसी में देखकर उसे अपने में चाहते हैं और दूसरे की अच्छी चीज को सहन नहीं कर पाते हैं.

=>
loading...

Check Also

कल है उत्पन्ना एकादशी, जानिए इसकी पौराणिक कथा…

Loading... Loading... अगहन यानी मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के नाम से …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com