Home / अध्यात्म / जानिए कावड़ यात्रा की मान्यता और आस्था का क्या है इतिहास

जानिए कावड़ यात्रा की मान्यता और आस्था का क्या है इतिहास

Loading...

Loading...

जैसा की आप जानतें है सावबन का महीना चला रहा है, इस महीने में भक्त भगवान शिवजी को खुश करने के लिए अलग-अलग तरीकों से उनकी पूजा करते हैं। इन्हीं तरीकों में से एक है कांवड़ लाना। सावन के महीने में भगवान भोलेनाथ के भक्त केसरिया रंग के कपड़े पहनकर कांवड़ लाते हैं, इसमें गंगा जल होता है। इन्हीं भक्तों को कांवड़ीया कहा जाता है।

कांवड़ को सावन के महीने में ही लाया जाता है। कांवड़ को सावन के महीने में लाने के पीछे की मान्यता है कि इस महीने में समुद्र मंथन के दौरान विष निकला था, दुनिया को बचाने के लिए भगवान शिव ने इस विष का सेवन कर लिया था। विष का सेवन करने के कारण भगवान शिव का शरीर जलने लगा।

भगवान शिव के शरीर को जलता देख देवताओं ने उन पर जल अर्पित करना शुरू कर दिया। जल अर्पित करने के कारण भगवान शिवजी का शरीर ठंडा हो गया और उन्हें विष से राहत मिली।

कावड़ यात्रा की मान्यता 

कांवड़ को सावन के महीने में ही लाया जाता है। कांवड़ को सावन के महीने में लाने के पीछे की मान्यता है कि इस महीने में समुद्र मंथन के दौरान विष निकला था, दुनिया को बचाने के लिए भगवान शिव ने इस विष का सेवन कर लिया था।

विष का सेवन करने के कारण भगवान शिव का शरीर जलने लगा। भगवान शिव के शरीर को जलता देख देवताओं ने उन पर जल अर्पित करना शुरू कर दिया। जल अर्पित करने के कारण भगवान शिवजी का शरीर ठंडा हो गया और उन्हें विष से राहत मिली।

विष पीने की वजह से भगवान कहलाये नीलकंठ 

कांवड़ लाने के बारे में कुछ विद्वानों का कहना है कि समुंद मंथन से निकले विष को पीने के कारण भगवान शिवजी का गला नीला हो गया था, जिसके कारण वे नीलकंठ कहलाए। विष के कारण उनके शरीर पर कई नकारात्मक प्रभाव पड़ गए थे। इन नकारात्मक प्रभावों से मुक्ति दिलाने के लिए उनके भक्त रावण ने काफी पूजा-पाठ की और कांवड़ में जल भरकर शिवमंदिर में चढ़ाया। जिसकी वजह से शिव जी सभी नकारात्मक प्रभावों से मुक्त हो गए। तभी से कांवड़ यात्रा की शुरुआत हुई।

=>
loading...

Check Also

जानिये आखिर कैसे बना शेर माँ दुर्गा की सवारी, ये रही पौराणिक कथा…

Loading... Loading... आप सभी ने अनेक शास्त्रों में पढ़ा होगा कि हिन्दु धर्म में हर …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com