Breaking News
Home / फेस्टिवल / आज का पंचांग: जानिए सावन के आखिरी सोमवार का शुभ मुहूर्त और राहुकाल!

आज का पंचांग: जानिए सावन के आखिरी सोमवार का शुभ मुहूर्त और राहुकाल!

Loading...

हिन्दू पंचांग के अनुसार सोमवार का दिन कैसा रहेगा, कब पड़ा रहा है राहुकाल, तिथि विशेष औऱ चौघड़िया कब है, जानिए आज के पंचांग में…

* पंचांग,  सोमवार, 20 अगस्त 2018*
======================

सूर्योदय: ०5:57
सूर्यास्त: ०6:52
चन्द्रोदय: 14:29
चन्द्रास्त: 25:14
अयन दक्षिणायन (उत्तरगोले)
ऋतु: 🌳वर्षा
शक सम्वत: 1940 (विलम्बी)
विक्रम सम्वत: 2075 (विरोधकृत)
युगाब्द: 5120
मास: श्रावण
पक्ष: शुक्ल
तिथि: दशमी (29:17 तक)
नक्षत्र: ज्येष्ठा (21:42 तक)
योग: वैधृति (15:16 तक)
प्रथम करण: तैतिल
द्वितीय करण: गर

* गोचर ग्रह *
========

सूर्य सिंह
चंद्र धनु (21:40 से)
मंगल मकर
बुध कर्क (मार्गी उदपूर्व 22:48 से)
गुरु तुला
शुक्र कन्या
शनि धनु
राहु कर्क
केतु मकर

शुभाशुभ मुहूर्त विचार
=============

अभिजित मुहूर्त: 11:54 – 12:45
अमृत काल: 11:59 – 13:45
होमाहुति: शुक्र
अग्निवास: आकाश
दिशा शूल: पूर्व
नक्षत्र शूल: पूर्व (21:42 तक)
चन्द्र वास: उत्तर (पूर्व 21:42 से)
दुर्मुहूर्त: 12:45 – 13:37
राहुकाल: ०7:28 – ०9:०5
राहु काल वास: उत्तर-पश्चिम
यमगण्ड: 10:42 – 12:20

*उदय-लग्न मुहूर्त*
==========

०5:5० – ०7:55 सिंह
०7:55 – 10:13 कन्या
10:13- 12:34 तुला
12:34 – 14:53 वृश्चिक
14:53 – 16:57 धनु
16:57 – 18:38 मकर
18:38 – 20:04 कुम्भ
20:04 – 21:27 मीन
21:27 – 23:01 मेष
23:01 – 24:56 वृषभ
24:56 – 27:11 मिथुन
27:11 – 29:32 कर्क
29:32 – 29:51 सिंह

*चौघड़िया विचार*
===========

॥ दिन का चौघड़िया ॥
१ – अमृत २ – काल
३ – शुभ ४ – रोग
५ – उद्वेग ६ – चर
७ – लाभ ८ – अमृत
॥ रात्रि का चौघड़िया ॥
१ – चर २ – रोग
३ – काल ४ – लाभ
५ – उद्वेग ६ – शुभ
७ – अमृत ८ – चर
नोट– दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।

*शुभ यात्रा दिशा*
==========

उत्तर-पूर्व (दर्पण देखकर अथवा खीर का सेवन कर यात्रा करें)

*तिथि विशेष*
========

बुध उदय पूर्व आदि।

*आज जन्मे शिशुओं का नामकरण*
=====================

आज २१:४२ तक जन्मे शिशुओ का नाम ज्येष्ठा द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (या, यी, यू) तथा इसके बाद जन्मे शिशुओं का नाम मूल प्रथम, द्वितीय चरण अनुसार (ये, यो) नामाक्षर से रखना शास्त्र सम्मत है।

Loading...

Check Also

रामनवमी:जानिए दो दिनों में से कब है रामनवमी का शुभ मुहूर्त

धर्म/अध्यात्म डेस्क| रामनवमी पर्व को ही श्रीराम के जन्मोत्सव पर्व के रुप में मनाया जाता …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com