Home / अध्यात्म / ये महिला मर्दों को टॉर्चर करने के लेती है लाखों रुपये, जम कर करती है लात-जूतों से पिटाई…

ये महिला मर्दों को टॉर्चर करने के लेती है लाखों रुपये, जम कर करती है लात-जूतों से पिटाई…

Loading...

दुनिया में बहुत से लोग ऐसे होतें हैं जिन्हे अजीबोगरीब शौक होतें हैं किसी को सोने के जूते पहने का शौक होता है तो किसी को करोड़ों वाइन से नहाने का लेकिन आज हम एक ऐसी महिला के बारे में बात करने जा रेहन हैं जिसके शौक उसके पैरों से शुरू होता है और मर्दों की जेब पर ख़त्म होता है…

जी हाँ, ये सच है, ब्रिटेन में एक महिला का अजीबोगरीब बिजनेस करती है… ये महिला अपने पैर दिखाकर लाखों रु की कमाई करती है। दरअसल, मिस्ट्रेस डीटा के नाम से मशहूर जूली प्रेस्टन अपने खूबसूरत पैरों से लोगों को टॉर्चर करती है।

टॉर्चर होने के लिए मर्द खर्च करतें है पैसा 

Image result for Julie Preston, known as Mistress Dita

उनसे टॉर्चर होने के लिए यहां पुरुष जमकर पैसे भी देते हैं। हाल ही में जूली ने अपनी इस “बिजारे क्लब” के बारे में खुलासा किया। उनका कहना है कि जैसा लोग सोचते हैं, वैसा यहां कुछ नहीं होता। यहां सबकुछ कंट्रोल्ड माहौल में होता है।

जूली बताती हैं कि मैं हमेशा से ओपन माइंडेड हूं, लेकिन मुझे अंधविश्वास और फैंटेसी जैसी बातों में काफी इंटरेस्ट है। जब मुझे पता चला कि दुनिया में ऐसे कई मर्द हैं, जिन्हें महिलाओं से टॉर्चर होने में मजा आता है। तभी से मैंने इसे अपना करियर बना लिया और अब हर महीने मेरे पास ऐसे करीब 20 मर्द आते हैं और टॉर्चर होने के बदले में मुझे पैसे भी देते हैं।

Image result for Julie Preston, known as Mistress Dita

जूली घर बैठे ही एक घंटे में मर्दो को टॉर्चर कर 500 पाउंड तक (करीब 45 हजार रुपए) कमा लेती है। इसके अलावा जूली मर्दों की कई अजीबोगरीब ख्वाहिश भी पूरी करती है। जूली ने कहा, कई मर्दों को तो वो अपने हाथ से खाना भी खिलाती है जूली एक घंटे के दौरान मर्दों को चाबुक और जूतों से पीटने के अलावा अपने जूते तक चाटने पर मजबूर करती है। इस तरह वो मर्दो की फैंटेसी पूरा करती है। जूली का कहना है कि मर्द हर बार कुछ अलग चाहते हैं और यह काम उनकी बीवियां नहीं कर सकतीं।

=>
loading...

Check Also

TPV टेक्नोलॉजी के साथ भारत में जल्द वापसी करेगा Phillips TV

Loading... नयी दिल्ली| देश के टेलीविजन बाजार से लगभग एक साल बाहर रहने के बाद …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com