Saturday , February 29 2020
Home / प्रदेश जागरण / उत्तराखंड / रोहित शेखर हत्याकांड:घर में ही हो सकता है कातिल ! पैसा और प्रॉपर्टी भी हो सकती हैं बड़ी वजह

रोहित शेखर हत्याकांड:घर में ही हो सकता है कातिल ! पैसा और प्रॉपर्टी भी हो सकती हैं बड़ी वजह

लखनऊ|

यूपी-उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रह चुके दिवंगत एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की हत्या का मामला पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बनता जा रहा है. हालांकि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने इस मामले में रोहित की पत्नी अपूर्वा और घर के दो नौकरों अखिलेश और गोलू को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया था. लेकिन अभी तक कोई पुख्ता सुराग हाथ नहीं लग पाया है. पुलिस के शक की सुई अपूर्वा की तरफ घूम रही है. हालांकि पुलिस संपत्ति विवाद को लेकर भी जांच में जुटी है.


दिल्ली पुलिस ने पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद रोहित तिवारी की संदिग्ध मौत के मामले में गुरुवार को हत्या का मामला दर्ज किया था. रिपोर्ट में बताया गया कि रोहित की मौत सांस रुकने से हुई है. यानी किसी ने उनका गला दबाया है. इस केस की जांच क्राइम ब्रांच के हवाले कर दी गई. इसके बाद क्राइम ब्रांच के रडार पर आए घर के दौ नौकर और रोहित की पत्नी अपूर्वा. पुलिस ने इन तीनों को हिरासत में ले लिया और पूछताछ शुरू कर दी. इसके साथ ही रोहित के भाई सिद्धार्थ से पूछताछ की जा रही है.

घर में ही हो सकता है कातिल!

ये मामला और गंभीर हो गया था, जब रोहित की मां उज्ज्वला ने रविवार को आरोप लगाया कि अपूर्वा और उसके परिवार वालों की नजर उनके बेटे रोहित की संपत्ति पर थी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद पुलिस का शक रोहित शेखर के करीबियों पर गहरा गया है. रोहित शेखर की मां उज्ज्वला शर्मा में दोबारा पूछताछ हुई जिसमें कई चौंकाने वाला खुलासा हुआ.

उज्ज्वला शर्मा ने पहली बार शेखर की किसी और महिला से करीबी और पत्नी अपूर्वा के साथ अनबन को लेकर कुछ नए खुलासे किए. उज्ज्वला शर्मा ने ये खुलासा भी किया कि रोहित और अपूर्वा इस जून में एक दूसरे से तलाक लेने वाले थे. मगर फिर घरवालों ने उन्हें समझाया था.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक रोहित शेखर के पास दो मोबाइल नंबर थे. खास बात ये है कि रात 3 बजे से 4 बजे के आसपास शेखर के नंबर से किसी को फोन करने की कोशिश की गई थी, जिसकी जांच की जा रही है. सूत्रों के मुताबिक तिलक लेन में रहने वाले एक रिश्तेदार की पत्नी कुमकुम भी शेखर के साथ उत्तराखंड गई थी. इसको लेकर शेखर की पत्नी खफा थी.

छानबीन में ये भी पता चला कि डिफेंस कॉलोनी स्थित उनके घर से झगड़े की दो पीसीआर कॉल भी हुई थी. क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने बताया कि ये रोहित तिवारी की हत्या का मामला है. पुलिस हर पहलू से मामले की जांच कर रही है. इसमें ‘रोहित शेखर तिवारी और उनके भाई सिद्धार्थ के बीच संपत्ति विवाद’ भी शामिल है. बता दें कि रोहित और उनके परिवार के पास उत्तराखंड और दिल्ली में करोड़ों रुपये की संपत्ति है.

कैसे हुई थी मौत?

रोहित शेखर तिवारी राजधानी दिल्ली की डिफेंस कॉलोनी में अपनी मां उज्ज्वला तिवारी के साथ रहते थे, जहां वो कमरे में संदिग्ध हालात में पाए गए थे. उन्हें फौरन साकेत मैक्स हॉस्पिटल ले जाया गया लेकिन डॉक्टरों ने जांच के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया था. रोहित की मौत पर उनकी मां उज्ज्वला ने कहा था कि उन्हें किसी पर शक नहीं है, ये प्राकृतिक ही है. लेकिन वह इस बात का खुलासा बाद में करेंगी कि रोहित की मौत किन परिस्थितियों में हुई. बाद में उनकी मां ने मौत का कारण डिप्रेशन बताया था.

पुलिस ने शुरू की जांच

पुलिस उपायुक्त विजय कुमार ने बताया था कि 16 अप्रैल को डिफेंस कॉलोनी निवासी रोहित शेखर तिवारी को उनकी पत्नी और मां दक्षिण दिल्ली के मैक्स अस्पताल लेकर गईं, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी. संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के कारण पुलिस ने जांच शुरू कर की. रोहित शेखर की लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया था. जहां पांच डॉक्टरों की टीम ने रोहित का पोस्टमार्टम किया. बताया जा रहा है कि पैनल में शामिल सभी डॉक्टरों ने रोहित की मौत को लेकर अलग-अलग राय जाहिर की है. उसी के बाद इस संबंध में बीती रात हत्या का मामला दर्ज किया गया और मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई.

हक के लिए लड़ी थी लंबी लड़ाई

गौरतलब है कि एन.डी. तिवारी का निधन बीते साल 18 अक्टूबर को हुआ था. साल 2008 में रोहित शेखर ने अदालत में मामला दायर कर खुद को एन.डी. तिवारी का बेटा बताया था, शुरू में एन.डी. तिवारी ने इस बात से इनकार किया, लेकिन बाद में डीएनए जांच से साबित हुआ कि रोहित, एन.डी.तिवारी के ही पुत्र हैं. इसके बाद एन.डी. तिवारी ने 2014 में 89 साल की उम्र में रोहित शेखर की मां उज्जवला से लखनऊ में शादी की थी.

newssource:aajtak

TwitterFacebookLinkedInWhatsAppEmailTumblr
Loading...

Check Also

उप्र विधानसभा के बजट सत्र में 61 घण्टे 41 मिनट तक चली सदन की कार्यवाही

  लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र शुक्रवार को समाप्त हो गया। बजट सत्र …

TwitterFacebookLinkedInWhatsAppEmailTumblr

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com