मोदी जी जितना चाहे मजाक उड़ा लो, लेकिन सहारा वाली बात तो सही है

rahul-gandhi_584013a98703dबहराइच : उत्तरप्रदेश में गुरुवार को नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी ने दौरा किया। वाराणसी में मोदी द्वारा दिए गये भाषण में उन्होंने राहुल के भूकंप वाले बयान पर कहा कि ”राहुल ने बोलना शुरू किया तो पता चला कि भूकंप की संभावना खत्म हो गई है। अच्‍छा हुआ वे कुछ तो बोले. ना बोलते तो बड़ा भूकंप आ जाता,” वही चार घंटे बाद राहुल ने बहराइच में दिए गये अपने भाषण में मोदी पर तंज कस्ते हुए कहा कि  ”मोदीजी, अाप मेरा कितना भी मजाक उड़ा लो, लेकिन ये बताओ कि सहारा से पैसे लेने वाली बात सच है या नहीं।

इससे पहले राहुल ने बुधवार को गुजरात दौरे में  मोदी पर आरोप लगते हुए कहा था कि सहारा के यहां छापे में मिली एक डायरी से पता चलता है कि छह महीने में नौ बार मोदी को पैसे दिए गए थे। वही राहुल ने बहराइच अपने भाषण में मोदी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि ”मैंने मोदी से गुजरात में कुछ सवाल पूछे, उनके जवाब नहीं दिए, लेकिन उनका मजाक उड़ाया। ढाई साल में आपकी सरकार ने देश के एक फीसदी लोगों को 60 फीसदी ईमानदारों का पैसा दे दिया है। कालाधन कहां है? ये देश के एक फीसदी लोगों और 50 परिवारों के पास है। 99 फीसदी लोगों के पास ये नहीं है। लाइन में लगे लोगों के पास ये नहीं है” 6 महीनों में 9 बार मोदी जी को पैसा दिया गया। 40 करोड़ रुपए दिया गया। मोदी जी आप मेरा मजाक उड़ाओ, लेकिन इतना बता दो कि ये सच है या नहीं? ये सवाल देश के करोड़ों युवा पूछ रहे हैं, जिन्होंने आपसे रोजगार की उम्मीद की थी।

फिर राहुल ने कहा ”मैंने मोदी से गुजरात में कुछ सवाल पूछे. उनके जवाब नहीं दिए, लेकिन उनका मजाक उड़ाया।ढाई साल में आपकी सरकार ने देश के एक फीसदी लोगों को 60 फीसदी ईमानदारों का पैसा दे दिया है. कालाधन कहां है? ये देश के एक फीसदी लोगों और 50 परिवारों के पास है। 99 फीसदी लोगों के पास ये नहीं है।लाइन में लगे लोगों के पास ये नहीं है।”6 महीनों में 9 बार मोदी जी को पैसा दिया गया। 40 करोड़ रुपए दिया गया. मोदी जी आप मेरा मजाक उड़ाओ, लेकिन इतना बता दो कि ये सच है या नहीं? ये सवाल देश के करोड़ों युवा पूछ रहे हैं, जिन्होंने आपसे रोजगार की उम्मीद की थी।”

फिर इसके बाद राहुल ने आतंकियों पर सवाल करते हुए कहा कि “सहारा कंपनी के यहां रेड होती है. बिजनेस वाले हिसाब रखते हैं। सहारा के कागजों में लिखा हुआ था, यहां इनकम टैक्स के अफसरों के दस्तखत हैं। जब कालाधन नहीं आया, तो मोदी ने आतंकवाद का उदाहरण दिया. लेकिन उनकी जेब से भी लाल रंग का चमकदार नोट निकला।राज्यसभा में हमने पूछा कि कितना कालाधन है तो मंत्री बोला 100 में से दो रुपए। नया इवेंट नया भाषण।”

“मोदी ने कैशलेस का बहाना बनाया. मोदी ने यहां फोन पर भाषण  ”मैंने मोदी से गुजरात में कुछ सवाल पूछे. उनके जवाब नहीं दिए, लेकिन उनका मजाक उड़ाया. ढाई साल में आपकी सरकार ने देश के एक फीसदी लोगों को 60 फीसदी ईमानदारों का पैसा दे दिया है. कालाधन कहां है? ये देश के एक फीसदी लोगों और 50 परिवारों के पास है. 99 फीसदी लोगों के पास ये नहीं है। लाइन में लगे लोगों के पास ये नहीं है। 6 महीनों में 9 बार मोदी जी को पैसा दिया गया। 40 करोड़ रुपए दिया गया। मोदी जी आप मेरा मजाक उड़ाओ, लेकिन इतना बता दो कि ये सच है या नहीं? ये सवाल देश के करोड़ों युवा पूछ रहे हैं, जिन्होंने आपसे रोजगार की उम्मीद की थी” लाइन खराब थी, भाषण ही ठीक से नहीं दे पाए. उससे कैश ट्रांसफर कैसे होगा? मोदी जी की दुनिया में कैशलेस का क्या मतलब है? आप बटन दबाओगे तो 5 फीसदी कमीशन उन्हीं पचास परिवारों पर पहुंचेगा।

नोटबंदी के पीछे क्या है, मैं आपको बताता हूं. मैंने आपको बताया कि 94 फीसदी कालाधन रियल एस्टेट और गोल्ड में है। एक फीसदी लोगों ने देश के बैंकों से करोड़ों रुपए का लोन लिया है। किसान को चोर बताया जाता है. लेकिन अगर कोई सुपर रिच आदमी लोन लेकर उसे वापस नहीं करता तो बैंक वाले उसके पास पहुंचकर कहते हैं कि आप डिफॉल्टर हैं। “टीवी पर आने का पैसा भी अमीर ही देते हैं। 30 सेकंड के लिए 12 से 15 लाख रुपए लगते हैं। अगर इनसे पैसा नहीं ले सकते तो 99 फीसदी लोगों से पैसा लेकर बैंक में डालें।”

=>
loading...

You May Also Like