Home / कारोबार / अमेरिका को भारत का करारा जवाब, 29 अमेरिकी उत्पादों पर आयात शुल्क बढ़ने तय

अमेरिका को भारत का करारा जवाब, 29 अमेरिकी उत्पादों पर आयात शुल्क बढ़ने तय

भारत ने 29 अमेरिकी उत्पादों पर रविवार से आयात शुल्क में बढ़ोतरी का फैसला कर लिया है। अमेरिका द्वारा पिछले वर्ष स्टील व एल्यूमिनियम पर आयात शुल्क बढ़ाने के फैसले के बाद भारत ने प्रतिक्रिया के तहत इन अमेरिकी उत्पादों पर शुल्क लगाने का फैसला किया था। लेकिन बाद में इसकी समय-सीमा कई बार बढ़ाई गई। वित्त मंत्रालय की तरफ से इसके लिए जल्द अधिसूचना जारी होने की उम्मीद है। अमेरिका से आयातित जिन उत्पादों पर शुल्क में वृद्धि की योजना है, उनमें अखरोट, बादाम और दालें शामिल हैं। आयात शुल्क में वृद्धि के बाद भारत को इनके आयात से 21.70 करोड़ डॉलर (करीब 1,500 करोड़ रुपये) का अतिरिक्त राजस्व मिलने की उम्मीद है। भारत के इस फैसले से अमेरिकी अखरोट पर आयात शुल्क मौजूदा 30 फीसद से बढ़कर 120 फीसद हो जाएगा।

इसके अतिरिक्त चना और मसूर दाल पर शुल्क 30 फीसद से 70 और अन्य दालों पर 40 फीसद हो जाएगा। इसके अतिरिक्त बोरिक एसिड समेत कुछ अन्य रसायनों पर भी आयात शुल्क बढ़ेगा। अमेरिकी सेब, नाशपाती और कुछ स्टील उत्पादों पर भी आयात शुल्क की दर बढ़ेगी। वित्त वर्ष 2017-18 में भारत ने अमेरिका को 47.9 अरब डॉलर का निर्यात किया था। जबकि अमेरिका से आयात 26.7 अरब डॉलर का हुआ।

Loading...

सूत्र बताते हैं कि भारत ने अमेरिका को आयात शुल्क की दर में वृद्धि करने के अपने इस निर्णय से अवगत करा दिया है। अमेरिका ने पिछले वर्ष मार्च में स्टील पर आयात शुल्क बढ़ाकर 25 फीसद और एल्यूमीनियम उत्पादों पर 10 फीसद कर दिया था। भारत इन दोनों उत्पादों का प्रमुख निर्यातक है, इसलिए अमेरिका के इस कदम से उसे सालाना 24 करोड़ डॉलर का अतिरिक्त भुगतान करना पड़ रहा है। लेकिन पिछले दिनों अमेरिका ने जीएसपी के तहत भारत को मिल रही कारोबारी रियायतें भी वापस ले लीं। सूत्रों के मुताबिक इसके बाद ही भारत की तरफ से अमेरिकी उत्पादों पर आयात शुल्क को और नहीं टालने का फैसला किया गया।

Loading...

Check Also

निर्मला सीतारमण ने बताया, धनकुबेरों पर क्यों लगाया टैक्स

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल के पहले बजट में ही देश के अति समृद्ध लोगों पर अतिरिक्त कर लगाने वाली वि;त्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को बताया कि उन्होंने आखिर ऐसा क्यों किया? चेन्नई के नागरथर चैंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा आयोजित इंटरनेशनल बिजनेस कान्फ्रेंस का उद्घाटन करते हुए वित्तमंत्री ने कहा कि अमीर लोगों पर लगाया गया कर उनसे एक छोटी-सी उम्मीद है, जिससे उनके द्वारा देश के गरीबों की थोड़ी और मदद हो सके।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com